बिहार के शहरों का वायु प्रदूषण से बुरा हाल, 2017 में लगभग 97 हजार लोगों की मौत

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: देश के साथ-साथ बिहार में भी वायु प्रदूषण बढ़ते जा रहा है. सूबे में पहले से पटना और मुजफ्फरपुर की हवा जहरीली थी. लेकिन इस लिस्ट में अब गया शहर भी आ गया है. एयर क्वालिटी इंडेक्स के मुताबिक पटना (405) और मुजफ्फरपुर(403) की हवा  ‘कष्टदायक’ है. वहीं गया (313) की हवा ‘बहुत ख़राब’ श्रेणी की रही.

खबर के अनुसार देश के 65 से अधिक शहरों की हवा की गुणवत्ता की मॉनीटरिंग की जा रही है. मॉनीटरिंग में यह देखा गया कि राजधानी पटना की हवा पिछले महीने से लगातार ख़राब होती जा रही है. पटना, मुजफ्फरपुर और गया की हवा को सबसे ज्यादा धूल, कचरा और वाहनों के धुएं से निकलने वाले रासायनिक तत्वों ने प्रभावित किया है.

एक रिपोर्ट के अनुसार भारत के अधिकतर राज्यों की हवा जहरीली हो चुकी है. सबसे ज्यादा उत्तर भारत में हालत चिंताजनक है. उत्तर भारतीय राज्यों में दोनों (घरेलू वायु प्रदूषण और परिवेश कण पदार्थ) सबसे ज्यादा मिलते हैं जिसमें बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश राजस्थान शामिल हैं. प्रदुषण के मामले में देश में बिहार का स्थान तीसरा है.  विश्व भर में भारत के 15 में से 14 शहरों में वायु प्रदूषण की हालत बहुत ही खराब है.
आपको बता दें कि ‘दी लैंसेट प्लैनेट्री हेल्थ’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक,  2017 में वायु प्रदूषण के कारण भारत में 12.4 लाख लोगों की मौत हुई है. मरने वालों की उम्र 70 वर्ष से कम थी. रिपोर्ट के अनुसार वायु प्रदूषण के कारण भारत में लोगों की औसत आयु करीब 1 साल 7 माह कम हो गई है.  विश्व में भारत एकमात्र  ऐसा देश हैं जहां पीएम2·5 का लेवल हर वर्ष विश्व स्तर पर सबसे ज्यादा होता है. भारत का एक भी ऐसा राज्य नहीं था जहां पर विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक से 10 माइक्रोग्राम/मी³, 45 से कम हो.

प्रदूषण से किस राज्य में कितनी मौतें

    • उत्तर प्रदेश- 260028
    • महाराष्ट्र – 108038
    • बिहार – 96967
    • प बंगाल – 94534
    • राजस्थान – 90499
    • मध्य प्रदेश – 83045
    • कर्नाटक – 64333
    • तमिलनाडु – 61205
    • गुजरात – 58696
    • आंध्र प्रदेश – 45525

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*