Super 30 वाले आनंद कुमार के एक कान से सुनने की क्षमता 90% हो गयी है ख़त्म

anand-kumar-1562763453
फाइल फोटो

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार के जाने-माने गणित शिक्षक आनंद कुमार पर बनी बॉलीवुड फिल्म ‘सुपर 30’ (Super 30) आज देश भर में रिलीज़ हो गयी. फिल्म के रिलीज़ होते ही यह खबर भी तेजी से फैली कि वो किस तरह जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे हैं. आनंद कुमार ने खुद यह खुलासा किया कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है, जिसका इलाज साल 2014 से ही जारी है. अब उनके भाई प्रणव आनंद ने जानकारी दी है कि कुमार एक कान से सुनने की क्षमता भी खो चुके हैं.

पटना के एक सिनेमाहॉल में फिल्म देखने पहुंचे आनंद कुमार के साथ आये उनके भाई प्रणव आनंद ने बताया कि वे एक कान से सुनने की क्षमता खो चुके हैं. इस कान से सुनने की क्षमता अब 90 प्रतिशत तक कम हो चुकी है. उन्होंने कहा कि आनंद कुमार को जो ट्यूमर है, वो अभी कैंसर का कारण नहीं बना है, लेकिन वो लोग पूरी तरह अलर्ट हैं और उनकी स्थिति पर ;लगातार नजर रखे हुए हैं.

पटना में रिलीज होते ही छा गई ऋतिक रौशन की फिल्म Super 30, दर्शकों ने कहा ये

बता दें कि आनंद कुमार के इस ब्रेन ट्यूमर का का नाम ‘अकॉस्टिक न्यूरोमा’ है. एक्सपर्ट्स के अनुसार इस बीमारी में कान के अंदरूनी भाग से दिमाग की ओर जाने वाली मुख्य नस में ट्यूमर हो जाता है. वैसे तो यह ट्यूमर सामान्य तौर पर कैंसरमुक्त होता है, लेकिन इससे होने वाले परेशानी काफी गंभीर होती है. इससे प्रभावित व्यक्ति की शारीरिक क्रियाओं पर बुरा असर पड़ता है.

सुपर-30 का ट्रेलर देख रो पड़े आनंद कुमार, बोले- लगा ऋतिक नहीं बल्कि मैं ही हूँ

बताया जाता है कि इस बीमारी में प्रभावित व्यक्ति की सुनाई देने की क्षमता बहुत कम हो जाती है. यह ट्यूमर नस पर बहुत ज्यादा दबाव बनाता है, जिसका दिमाग पर गंभीर असर होता है. कई मामलों में स्थिति इतनी गंभीर हो जाती है कि यह बीमारी मरीज की मौत का कारण भी बन सकती है.

आनंद कुमार ने खुद इस बीमारी के बारे में बताया कि हर ऑपरेशन के साथ उनपर खतरा और बढ़ता जा रहा है. इस ट्यूमर का असर उनकी अन्य इन्द्रियों पर भी हो सकता है. उन्होंने कहा कि इस वजह से वे चाहते थे कि उनपर बनी फिल्म ‘सुपर 30’ जल्द बने और रिलीज़ हो, ताकि वे जीवित रहते हुए अपनी जीवन यात्रा को पर्दे पर देख पाएं.

कुमार फिलहाल अपना इलाज दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में करा रहे हैं. उन्हें कान में सुनने की क्षमता कम होने के बाद इसी अस्पताल में इलाज के दौरान पता चला कि उन्हें ब्रेन ट्यूमर है. यह सब साल 2014 में हुआ था. उन्होंने कहा कि इस साल के बैच के उनके छात्रों को इस बीमारी के बारे में पता था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*