गया में जेइ-एइएस से एक और बच्ची की गई जान, अब तक 7 की हो चुकी है मौत

प्रतीकात्मक तस्वीर

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : मुजफ्फरपुर के बाद गया में बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है. गया के मगध मेडिकल कॉलेज में देर रात एक और बच्ची की मौत हो गई. झारखंड के पलामू जिले से बच्ची इलाज के लिए आई थी. इस के साथ ही गया में अब तक मौत का आंकड़ा सात हो गया है. अभी अस्पताल में 16 जेइ व एइएस संदिग्ध बच्चों का इलाज किया जा रहा है.

मुजफ्फरपुर के बाद अज्ञात बीमारी का अगला शिकार गया जिला बन रहा है. जिले के मगध मेडिकल कॉलेज अस्पताल में बीते दो जुलाई से एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोंम के मरीजों का आना जारी है. अस्पताल में अब तक चमकी बुखार से पीड़ित 22 बच्चे भर्ती हुए हैं, जिनमें से 7 बच्चों की मौत हो चुकी है. इनमें से 16 बच्चों में AES से संबंधित लक्षण पाए गए हैं. इस मामले में अस्पताल अधीक्षक वीके प्रसाद ने बताया कि अभी तक कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है.

रिपोर्ट पटना भेजा गया

डॉक्टरों का कहना है कि इस मामले विस्तृत रिपोर्ट आने के बाद कुछ कहा जा सकता है. उन्होंने कहा कि सभी बच्चों की रिपोर्ट पटना भेजा गया है. रिपोर्ट आने के बाद ही बच्चों के मरने का कारण स्पष्ट हो पाएगा. डॉक्टरों के इस बयान के बाद यही लगता है कि बीमारी का पता नहीं चल रहा लेकिन इलाज हो रहा है. ऐसे में सवाल यह भी है कि आखिर अज्ञात बीमारी का कंफर्म इलाज कैसे संभव है.

ये भी पढ़ें : बिहार : सेमीफाइनल में टीम इंडिया की हार ने एक प्रशंसक की ले ली जान, हॉर्ट अटैक से मौत

ये भी पढ़ें : बिहार में बारिश को लेकर अबतक का हैवी अलर्ट, इन जिलों में 5 दिनों तक होगी बारिश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुजफ्फरपुर में एईएस से हो रही बच्चों की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए सोमवार को कहा कि इसके लिए जागरूकता अभियान की जरूरत है. उन्होंने बताया कि प्रभावित गांवों में आर्थिक-सामाजिक सर्वेक्षण करने का निर्देश दिया गया है.

About परमबीर राजपूत 2247 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*