पटना: सड़क पर उतरीं आशा कार्यकर्ता, कहा- हम बंधुआ मजदूर नहीं, हमें सरकारी कर्मी का दर्जा मिले

पटना में अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करतीं आशा कार्यकर्ता.

लाइव सिटीज (साथ में देवांशु प्रभात) : आशा कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों को लेकर गुरुवार को शहर में जमकर प्रदर्शन किया. वे सैकड़ों की संख्या में सड़क पर उतर आयीं. उन्होंने पटना डीएम कार्यालय का घेराव किया. इसे लेकर गांधी मैदान इलाके में शहर की ट्रैफिक व्यवस्था घंटों बाधित रही. पब्लिक से लेकर पुलिस तक परेशान रही. काफी देर के बाद स्थिति ठीक हुई.

जानकारी के अनुसार अपनी मानदेय बढ़ाने व अन्य मांगों को लेकर गुरुवार को पटना मुख्यालय में जमकर प्रदर्शन किया. राजधानी के जेपी गोलंबर से आशा कार्यकर्ताओं ने मार्च निकाला. मार्च डीएम कार्यालय तक गया. इस दौरान महिलाएं केंद्र व राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रही थीं. उन लोगों का कहना था कि दोनों सरकारें हमलोगों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही हैं. हमें बंधुआ मजदूर समझती हैं.

15 सूत्री मांगों को लेकर आशा कार्यकर्ताओं ने कारगिल चौक पर हंगामा भी किया. इस दौरान महिलाओं की पुलिसकर्मियों के साथ नोकझोंक भी हुई. का हंगामा कारगिल चौक पर प्रदर्शन के दौरान सेविकाओं और पुलिस के हुई नोक-झोंक भी हुई. हालांकि प्रदर्शन को देखते हुए पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मियों को सुरक्षा में लगाया गया था. महिला पुलिसकर्मियों को भी सुरक्षा में लगाया गया था. लेकिन महिलाओं के प्रदर्शन के आगे पुलिस कमजोर पड़ गयी. इससे जगह जगह आशा कार्यकर्ताओं के साथ पुलिस की झड़प भी हुई.

उधर आशा कार्यकर्ताओं के हंगामेदार प्रदर्शन को लेकर ट्रैफिक बाधित रहा. जेपी गोलंबर से डीएम कार्यालय तक गाड़ियों का जाम लग गया. गांधी मैदान इलाके से जुड़ी तमाम सड़कों में गाड़ियों की कतारें लग गईं. डाकबंगला चौराहा और बेली रोड की ओर जाने वाले वाहन भी जाम में फंस गये. प्रदर्शन कर रही महिलाओं का कहना था कि सरकार हमलोगों पर ध्यान नहीं दे रही हैं. उन्होंने कहा कि सरकार हमारी मानदेय को बढाएं और हमें सरकारी कर्मियों का दर्जा दें. अगर हमारी मांगें पूरी नहीं होती हैं तो हमलोग इससे भी बड़ा आंदालेन करेंगे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*