लाइव सिटीज सेन्ट्रल डेस्क: बिहार के भागलपुर जिले से एक दिल दहलाने वाली खबर सामने आ रही है, जहां अलीगंज में कुछ दरिंदों ने एक नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म करने का प्रयास किया, मगर जब वे असफल हुए तो सबने लड़की को तेज़ाब से नहला दिया. घटना में गंभीर रूप से घायल हुई छात्रा को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मामले में दो लोगों की गिरफ्तारी की भी खबर है.

मामला भागलपुर के  अलीगंज की है जहां शुक्रवार की शाम सामूहिक दुष्कर्म में असफल रहने पर चार दरिंदों ने एक 17 वर्षीय नाबालिग छात्रा को तेजाब से नहला दिया. इस मामले को लेकर छात्रा की मां ने बताया कि वह बेटी के साथ खाना बना रही थी, तभी कुछ बदमाश मुंह को कपड़े से ढके घर में आ धमके. सभी हथियारों से लैस थे. एक बदमाश ने उनकी कनपटी में हथियार सटा दिया और बेटी को खींचकर ले जाने लगे. जब मां-बेटी ने इसका विरोध किया तो एक युवक ने गाली-गलौज करते हुए बेटी को तेजाब से नहला दिया.बदमाशों ने उन पर भी तेजाब फेंका और हथियार लहराते हुए छत की तरफ भाग गए. बेटी छटपटाते हुए हॉल में जाकर गिर गई.

पड़ोसियों में पहुंचाया अस्पताल

एसिड के हमले में बुरी तरह झुलसी छात्रा जोर-जोर से मदद के लिए चिल्लाने लगी.उसकी आवाज सुनकर आसपास से काफी संख्या में लोग घर के बाहर जमा हो गए. धक्का देने के बाद छात्रा की मां ने दरवाजा खोला तो लोगों ने देखा कि छात्रा हॉल के फर्श पर गिरकर तड़प रही थी. जब लोगों ने उसे उठाने का प्रयास किया लेकिन हाथ लगाते ही त्वचा उतरनी लगी.इसके बाद वहां मौजूद महिलाओं ने काफी संभल कर छात्रा को प्लास्टिक की कुर्सी पर बैठाया. कुर्सी सहित उसे वाहन से मायागंज अस्पताल लेकर पहुंचे.  लड़की के पिता की अलीगंज में सोने-चांदी की दुकान है. जिस समय घटना घटी उस समय उसके पिता दुकान पर थी.छात्रा के दो छोटे भाई हैं। पीडि़त छात्रा इंटर में पढ़ती है.

बदमाशों का हथियार बरामद

घर से भागते समय बदमाशों का एक कट्टा किचन में ही छूट गया। जबकि छत के मुख्य रास्ते पर प्लास्टिक का एक थैला मिला। थैले में रूमाल था। जानकारी मिलते ही बबरंगज थाना पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। मामले की जांच के लिए पहुंचे सिटी एसपी सुशांत कुमार सरोज और सिटी डीएसपी राजवंश सिंह ने घर वालों से घटना के बारे में पूरी जानकारी ली। साथ ही आसपास के लोगों से भी पूछताछ की।

इस मामले को लेकर भागलपुर एसएसपी आशीष भारती ने बताया कि दो लोगों को संदेह पर पकड़ा गया है. अन्य बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए सिटी डीएसपी के नेतृत्व में विशेष जांच दल (एसआइटी) का गठन किया गया है.मैं खुद घटना की निगरानी कर रहा हूं। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।