बछवाड़ा विधायक रामदेव राय का निधन, पटना के निजी अस्पताल में ली अंतिम सांस

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: इस वक़्त एक बड़ी खबर सामने आ रही है. बेगूसराय बछवाड़ा विधानासभा के कांग्रेस विधायक रामदेव राय का का निधन हो गया है. 81 वर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया.

कई दिनों से बीमार चल रहे कांग्रेस एमएलए का इलाज राजधानी पटना के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में चल रहा था, जहां उन्होंने शनिवार की सुबह आखिरी सांस ली. विधायक के निधन के बाद पार्टी नेताओं ने शोक व्यक्त किया है. राजनीतिक गलियारे में शोक की लहर है.



बेगूसराय के बछवाड़ा सीट से विधायक रामदेव राय की तबीयत के दिनों से खराब थी. मिली जानकारी के अनुसार विधायक रामदेव राय पिछले कई महीनों से लागातार गंभीर रूप से बीमार चल रहे थे. बीते सोमवार की रात में अचानक उनकी स्थिति बिगड़ने के कारण उन्हें पटना के एक निजी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था. विधायक की हालत लगातार नाजुक बनी हुई थी. डॉक्टरों की देखरेख में उनका इलाज चल रहा था. शनिवार को सुबह में विधायक के पीआरओ ने इस बात कि जानकारी दी कि विधायक रामदेव राय का निधन हो गया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बछवारा विधायक रामदेव राय के निधन पर कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल एवं बिहार कांग्रेस अध्यक्ष डॉ मदन मोहन झा ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा है कि रामदेव बाबू एक गांधीवादी नेता थे. उनके निधन से पार्टी और समाज को अपूरणीय क्षति हुई है.

रामदेव राय 13 वर्ष की उम्र से ही छात्र नेता के रूप में सामाजिक कार्य शुरू कर दिया था. वहीं 29 साल के उम्र में वर्ष 1972 में पहली वार बछवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंचे. वहीं विधानसभा में 1973 में उन्हें मंत्री बनाया गया. जनता के बीच लोकप्रियता के कारण वह बछवाड़ा विधानसभा में दूसरी बार भी 1977 में चुनाव जीते.

वहीं वर्ष 1980 में जब चुनाव हुआ तो उन्होंने बछवाड़ा विधानसभा से लगातार तीसरी बार चुनाव जीत कर मिसाल कायम की और उन्हें दोबारा मंत्री पद दिया गया. वर्ष 1984 में लोकसभा चुनाव में समस्तीपुर से बिहार के जनप्रिय नेता पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरे और भारी मतों से विजय प्राप्त कर लोकसभा पहुंचे. फिर विधानसभा चुनाव 2005 फरवरी में कांग्रेस पार्टी द्वारा टिकट नहीं मिलने पर बछवाड़ा विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीता.