लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : देश की एक बड़ी आईटी कंपनी जिसमें काम करने का हर आईटी स्टूडेंट सपना देखता है वो अब बड़ा झटका देने जा रही है. देश की बड़ी कंपनी इंफोसिस में काम करने का सपना हर आईटी पढ़ने वाला स्टूडेंट देखता है लेकिन अब इंफोसिस बड़ा झटका देने वाली है.

दरअसल ख़बर ये है कि इंफोसिस जल्दी ही कंपनी से 12 हजार कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाने वाली है. यानि आईटी सेक्टर से 12 हजार लोग एक बार फिर से बेरोजगार हो जाएंगे.

कोग्निजेंट ने भी 13 हजार कर्मचारियों को किया था बाहर

बता दें कि हाल ही में विश्व की प्रमुख आईटी कंपनी कोग्निजेंट ने भी 13 हजार कर्मचारियों को बाहर करने की घोषणा की थी. इससे सबसे ज्यादा असर उन कर्मचारियों पर पड़ेगा जिनका वेतन बहुत ज्यादा है. खबर है कि इंफोसिस अपने यहां जेएल-6 बैंड में कार्यरत 2200 कर्मचारियों  को बाहर करेगी. इस बैंड में ज्यादातर सीनियर लेवल पर कार्यरत कर्मचारी होते हैं. कंपनी के पास मध्यम क्रम में करीब 3092 कर्मचारी जेएल-6, जेएल-7 और जेएल-8 बैंड में कार्यरत हैं.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक कंपनी जेएल-3, जेएल-4 और जेएल-5 बैंड में कार्यरत दो से पांच फीसदी कर्मचारियों को बाहर करेगी. इस हिसाब से इन बैंड में कार्यरत चार हजार से लेकर के 10 हजार कर्मचारियों पर असर पड़ेगा. कंपनी इस तिमाही में कुल 12200 कर्मचारियों को बाहर करने जा रही है.

इंफोसिस के इतिहास में ऐसा पहली बार

एक रिपोर्ट के अनुसार कंपनी में ऐसे कर्मचारियों की संख्या 50 के करीब है, जिनको असिस्टेंट वाइस प्रेसीडेंट, वाइस प्रेसीडेंट, सीनियर वाइस प्रेसीडेंट और एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेसीडेंट के पद पर नियुक्त किया गया था. इन सभी को बाहर किया जाएगा.

आपको बता दें कि इंफोसिस के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है, जब इतनी ज्यादा संख्या में लोगों को बाहर किया जाएगा. इससे पहले लोग अपनी तरफ से कंपनी से बाहर निकलते थे. पिछली दो तिमाही से कंपनी अपने कई कर्मचारियों को बाहर कर चुकी है. टेक सर्विस में कार्यरत 18 फीसदी कर्मचारी खुद से और 19.4 फीसदी अलग से निकल चुके है. इसके अलावा जितने भी कर्मचारी बाहर गए हैं, उनको कंपनी ने ऐसा करने के लिए कहा है.

पटना : बापू सभागार में बोले जेपी नड्डा, बीजेपी ने सभी मिथ्याओं को तोड़ दिया