बड़ी खबर, RRB ग्रुप-D की नहीं होगी दो परीक्षा, सुशील मोदी ने कहा रेल मंत्री से हो गई मेरी बात

लाइव सिटीज पटना: आरआरबी एनटीपीसी (RRB NTPC) के परीक्षा परिणाम को लेकर बिहार में परीक्षार्थियों के द्वारा किए गए हंगामे मामले में पटना पुलिस ने खान सर (Khan Sir) समेत कई कोचिंग संचालक और छात्रों के खिलाफ FIR दर्ज किया है. इस मामले पर सियासत भी तेज हो गई है. विपक्ष छात्रों के समर्थन में उतर आया है. वहीं इस बीच बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और बीजेपी सांसद सुशील मोदी का बड़ा बयान सामने आया है.

पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने ट्वीट कर लिखा है कि रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने आज मुझे आश्वस्त किया कि ग्रुप-डी की दो की बजाय एक परीक्षा होगी और एनटीपीसी की परीक्षा के 3.5 लाख अतिरिक्त परिणाम “एक छात्र-यूनिक रिजल्ट” के आधार पर घोषित किये जाएंगे. उन्होंने कहा है कि रेलमंत्री ने मुझे भरोसा दिलाया कि सरकार छात्रों से सहमत है और उनकी मांग के अनुरूप ही निर्णय जल्द किया जाएगा. मैंने लाखों अभ्यर्थियों की परेशानी और उनकी मांगों से रेल मंत्री वैष्णव को विस्तार से अवगत कराया.

सुशील मोदी ने ट्वीट कर लिखा है कि मैंने रेल मंत्री से आग्रह किया कि एनटीपीसी के मामले में “वन कैंडीडेट-वन रिजल्ट” के सिद्धांत पर निर्णय किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि रेलवे बोर्ड ने यदि फैसला अचानक लेने से परहेज किया होता और समय रहते छात्रों के भ्रम दूर किये होते,तो बिहार में ऐसी अप्रिय स्थिति नहीं पैदा होती. उन्होंने लिखा है कि मेरी राज्य के पुलिस प्रशासन से अपील है कि छात्रों पर कोई दमनात्मक कार्रवाई न की जाए. छात्र कोई अपराधी नहीं हैं. छात्रों से अपील है कि संयम बरतें ताकि रेलवे बोर्ड मामले के सभी पहलुओं की जांच पूरी कर परीक्षार्थियों के हित में फैसला कर सके.

बता दें कि आरआरबी एनटीपीसी रिजल्ट का मामला लगातार गरमाता जा रहा है. बिहार में बीते 72 घंटों से कई जिलों में आगजनी, तोड़फोड़ और पथराव को लेकर राजेन्द्र नगर रेल थाना समेत तीन थानों में 2000 से अधिक लोगों पर मामला दर्ज हुआ है. खान सर के अलावा एसके झा सर, नवीन सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर और बाजार समिति के कई कोचिंग संचालकों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है. खान सर समेत कोचिंग संचालकों पर केस दर्ज होने पर पटना DM ने कहा कि इलेक्ट्रानिक सर्विलांस के आधार पर FIR दर्ज की गयी है. नोटिस का जवाब आने के बाद छात्रों को भड़काने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

बतातें चलें कि छात्रों का कहना है कि 2019 में भर्ती के लिए विज्ञापन निकाला गया. आंदोलन के बाद 2021 में परीक्षा आयोजित हुई थी. अब रिजल्ट के बाद दो चरणों में परीक्षा आयोजित करने की तिथि निकाली गई है. बिहार में मंगलवार को कई स्थानों पर ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुईं. रेलवे भर्ती बोर्ड द्वारा दो भागों में परीक्षा आयोजित करने के फैसले का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने रेलवे पटरियों पर धरना दिया. इससे ट्रेनों से आवाजाही प्रभवित हुई.