BJP नेता से हो गई बड़ी भूल, पार्टी की स्थापना दिवस पर दे दी वाजपेयी को श्रद्धांजलि

bjp leader, rana pratap singh, atal bihari vajpayee, syama prasad mukherjee, deendayal upadhyay, बिहार, बक्सर, बीजेपी स्थापना दिवस, पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि

लाइव सिटीज डेस्क : अभी कुछ दिन पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की मौत की अफवाह उड़ी थी. और लोगों ने इस अफवाह को सच मानकर उन्हें श्रद्धांजलि देना शुरू कर दिया था. अब एक बार फिर ऐसा मामला सामने आया है. हालांकि इस बार उनके मौत की खबर तो नहीं फैली है, लेकिन उन्हें श्रद्धांजलि देने का मामला सामने आया है. घटना बिहार के बक्सर जिले की. भारतीय जनता पार्टी का 38वां स्थापना दिवस शुक्रवार को मनाया गया. देशभर में इसको लेकर कार्यक्रम किए गए और पार्टी के संस्थापक दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी गई. मगर इसी बीच एक ऐसी तस्वीर वायरल हो गई है, जिसको लेकर काफी चर्चा है.

घटना बिहार के बक्सर जिले की है

घटना बिहार के बक्सर जिले की है, जहां पर पार्टी के 38वें स्थापना दिवस को लेकर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था और इसके मुख्य अतिथि बीजेपी के जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह थे. बीजेपी जिलाध्यक्ष ने भी इस कार्यक्रम के दौरान दीनदयाल उपाध्याय और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तस्वीर पर फूल माला चढ़ाया और उन्हें श्रद्धांजलि दी. मगर हद तो तब हो गई जब मंच पर ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तस्वीर पर भी राणा प्रताप सिंह ने माल्यार्पण कर दिया और उन्हें भी श्रद्धांजलि दे दी.

बीजेपी नेता की इस भूल से हर कोई चौंक गया

बीजेपी नेता की इस भूल से हर कोई चौंक गया और अब उनकी इस भूल की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं. राणा प्रताप सिंह यह शायद भूल गए कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भले ही अभी बीमार हैं मगर जीवित हैं और उनकी तस्वीर पर फूल माला चढ़ा कर उन्होंने कई लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाया है.

फोटो वायरल होने के बाद राणा प्रताप सिंह ने मानी गलती

फोटो वायरल होने के बाद राणा प्रताप सिंह ने माना कि उनसे गलती हो गई है. उन्होंने कहा कि मैंने जानबूझकर यह गलती नहीं की है, बल्कि भूलवश उन्होंने वाजपेयी जी की तस्वीर पर माल्यार्पण कर दिया. हालांकि राणा प्रताप सिंह ने कहा कि विपक्षी दलों से ज्यादा उनकी ही पार्टी के लोग, जो उनके विरोधी हैं. इस पूरे मुद्दे को उछाल रहे हैं और उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं.

बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री की मौत की अफवाह कीये पहली खबर नहीं है इससे पहले भी 2015 में इसतरह की अफवाह उड़ी थी। उड़ीसा के बालासोर जिले में एक प्राइमरी स्कूल के प्रिंसिपल ने बिना जानकारी किए पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दे दी थी। बाद में प्रिंसिपल ने अपनी गलती के लिएमाफी भी मांगी थी लेकिन कलेक्टर ने उन्हें निलंबित कर दिया था.

खगड़िया में डबल मर्डर : फसल कटनी के विवाद में दो को मार दी गोली, मरनेवालों में महिला भी

पटना से गोपालगंज जा रही थी यात्री बस, ड्राइवर और कंडक्टर की गलती से हो गया बड़ा हादसा

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*