कैबिनेट : 4 एजेंडो पर लगी मुहर, जल संसाधन विभाग के 40 जूनियर इंजीनियरों का सेवा विस्तार

patna-city-politics , बिहार समाचार , नीतीश कुमार , अरूण जेटली , गुरूद्वारा , लंगर , Bihar politics ,Nitish kumar , Arun Jaitley , Gurudwara , Tax
नीतीश कुमार का फाइल फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : आज मंगलवार को बिहार कैबिनेट की फिर बैठक हुई. सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में बिहार कैबिनेट की बैठक की गई. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में बिहार कैबिनेट की बैठक में कुल चार एजेंडों पर मुहर लगाई गई. जिनमें मुख्य ये रहे- जहानाबाद के कुष्ठ नियंत्रण इकाई के डॉक्टर रेहान अशरफ को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया. जल संसाधन विभाग के 40 जूनियर इंजीनियरों की सेवा विस्तार पर कैबिनेट ने फैसला किया कि उन्हें एक साल का सेवा विस्तार दिया जाएगा.

जिला स्तर पर निधि का गठन होगा

इसके अलावे बिहार पीड़ित प्रतिकार संशोधन स्कीम 2018 को मंजूरी दी गई. बिहार पीड़ित प्रतिकार स्कीम 2018 के तहत तेजाब हमला, बलात्कार, शारीरिक शोषण, मानव व्यापर के पीड़ितों का पुनर्वास, यौन हमला के पीड़ितों के मुआवजे में वृद्धि का प्रस्ताव भी पारित किया गया. इसके लिए अब जिला स्तर पर निधि का गठन होगा जिसकी राशि तीन लाख से बढाकर छः लाख की गई है.



विधानमंडल का मॉनसून सत्र खास होगा

बता दें कि इस बार विधानमंडल का मॉनसून सत्र कुछ खास होगा. इसके शुरू होते ही 20 जुलाई को राज्य सरकार अपना पहला अनुपूरक बजट पेश करेगी. यह अनुपूरक बजट करीब 17 हजार करोड़ का होने का अनुमान है, जो चालू वित्तीय वर्ष के लिए निर्धारित कुल बजट एक लाख 76 हजार 990 करोड़ के अतिरिक्त होगा. इस अनुपूरक बजट में संभावित बाढ़ के लिए करीब चार हजार करोड़ रुपये का प्रावधान है. पिछले वर्ष बाढ़ राहत कार्य में तकरीबन इतने ही रुपये खर्च हुए थे. मुख्यमंत्री आकस्मिक निधि के आकार को भी बढ़ा कर करीब सात हजार करोड़ किया जा रहा है. शेष बचे करीब छह हजार करोड़ निर्माण से जुड़े विभागों में खर्च के लिए रखी जायेगी.

 

शिक्षा, स्वास्थ्य, समाज कल्याण समेत अन्य प्रमुख विभागों के खर्च की रफ्तार अच्छी नहीं : इस पहले के अनुपूरक बजट में बाढ़ राहत फंड और सीएम आकस्मिक फंड के ही पैसे रखे जाते रहे हैं. इस बार विभागों के लिए छह हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त प्रावधान है. चालू वित्तीय वर्ष में सरकारी महकमों के खर्च की रफ्तार धीमी है. 92 हजार 317 करोड़ की पूंजीगत व्यय या योजना आकार की राशि का साढ़े तीन माह में महज 30 फीसदी ही खर्च हुआ है.

यह भी पढ़ें : बिहार को स्पेशल स्टेटस पर नीतीश कुमार ने ‘फंसा’ दिया सुशील मोदी को

PM मोदी ने की नीतीश-रघुवर की जमकर तारीफ, कहा- जनता ने इन्हें बनाया है CM