जुलाई 2015 के बाद नियुक्त शिक्षकों के लिए बड़ी खुशखबरी, मैट्रिक-इंटर फेल भी करें ग्रेजुएशन

education department, विद्यालय खेल, teachers association, bihar news, hindi samachar, बोइहर hindi समाचार, पटना न्यूज़, न्यूज़ ऑफ़ पटना

पटना : बिहार के उन शिक्षाकर्मियों के लिए ख़ुशी की खबर है जो 1 जुलाई 2015 के बाद नियुक्त किये गए हैं. राज्य सरकार ने उन्हें दूसरे शिक्षकों की भांति ग्रेड पे का लाभ देने के निर्णय लिया है. इनमें शिक्षकों के साथ ही पुस्तकालयाध्यक्ष भी शामिल हैं. राज्य सरकार ने अपने इस फैसले से जिलों के कार्यक्रम और शिक्षा पदाधिकारियों को अवगत करा दिया है. इस मामले में जिलों के DEO और DPO ने कुछ तकनीकी दिक्कतों के प्रति विभाग को आगाह किया था, जिसके बाद गुरुवार को सरकार ने यह फैसला लिया है.

दरअसल, जिलों के इन अधिकारियों ने शिक्षा विभाग को पत्र लिखकर शिक्षकों की वेतन वृद्धि के साथ ही ग्रेड-पे देने में आ रहे संशय को दूर करने का आग्रह किया था. उन्होंने पूछा था कि वैसे प्रशिक्षित शिक्षक जिनकी नियुक्ति दिसंबर 2013 में है और जिन्हें नियमों के मुताबिक 2015 में ही ग्रेड पे दिया गया है, उन्हें वार्षिक वेतन वृद्धि दी जा सकती है अथवा नहीं. इसके जवाब में विभाग ने साफ किया है कि जिन शिक्षकों को ग्रेड पे दिया जा चुका है, उन्हें भी वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ दिया जाएगा.



कुछ जिलों के शिक्षा अधिकारियों ने जानकारी मांगी थी कि जो शिक्षक एक जुलाई 2015 के बाद नियुक्त किए गए हैं उन्हें दो वर्ष की सेवा पूरी होने के आधार पर वार्षिक वेतन वृद्धि दी जाएगी या फिर उनके नियुक्ति की तिथि के आधार पर. अब सरकार ने इन सभी संशयों पर विराम लगा दिया है.

मैट्रिक-इंटर फेल करें ग्रेजुएशन

किसी कारणवश मैटिक और इंटर में फेल कर जाने वाले स्टूडेंट्स और फिर आगे समय न बर्बाद करने की चाह रखनेवालों के लिए अच्छी खबर है. अब ऐसे स्टूडेंट्स भी ग्रेजुएशन कर सकते हैं. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) यह मौका अपने बैचलर प्रिपरेटरी प्रोग्राम (BPP) प्रोग्राम के तहत दे रहा है. संस्थान ने जानकारी दी है कि 18 वर्ष से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति में सफल होने के बाद ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर सकता है. छह महीने के इस कोर्स में फिलहाल 1400 रुपये फी जमा कर 31 दिसंबर तक ऑनलाइन एडमिशन लिया जा सकता है.

बताया गया है कि इस कोर्स को करने के बाद IGNOU से किसी भी विषय में ग्रेजुएशन किया जा सकता है. इस कोर्स की मान्यता सभी स्टेट्स में है. इसके बाद सामान्य स्टूडेंट्स की तरह ही सिविल सर्विसेज और स्टेट एग्जाम दिया जा सकता है. इस बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने नजदीकी IGNOU ऑफिस में संपर्क किया जा सकता है.

शिक्षा विभाग की पहल : घर बैठे देख सकेंगे बच्चे स्कूल गए या नहीं, शिक्षक गायब तो नहीं
बिहार के सभी जिलों की रैंकिंग, शिक्षा विभाग ने तय की है पढ़ाई की क्वालिटी