शत्रुघ्न सिन्हा पर बरसे बाबुल सुप्रियो, कहा – तीन तलाक देकर छोड़ दीजिए BJP

लाइव सिटीज डेस्क : बीजेपी पार्टी के ‘शत्रु’ बने बिहारी बाबू पर आज केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो खूब बरसे. पूरा मामला बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के ट्वीट का है जो उन्होंने राजस्थान उपचुनाव में बीजेपी को करारी शिकस्त पर किया. बता दें कि राजस्थान उपचुनाव में बीजेपी को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है. बीजेपी की इस हार पर पार्टी के ही सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने चुटकी ली थी.

शत्रुघ्न सिन्हा ने शुक्रवार को ट्वीट कर लिखा कि, ‘सत्तारूढ़ पार्टी के लिए रेकॉर्ड ब्रेकिंग खतरनाक परिणामों के साथ ब्रेकिंग न्यूज- बीजेपी को तीन तलाक देने वाला राजस्थान पहला राज्य बन गया है. अजमेर-तलाक, अलवर-तलाक, मांडलगढ़-तलाक. हमारी पार्टी को झटका देते हुए हमारे विरोधियों ने रेकॉर्ड अंतर से चुनावों में जीत दर्ज की है.’शत्रुघ्न सिन्हा के बयानों पर आज केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने पलटवार किया. उन्होंने कहा कि आपको इतनी नफरत है तो क्यों रोजाना संसद में आकर बैठते हैं? तीन तलाक लीजिए और खुद बीजेपी छोड़ दीजिए.

फिर जागा ‘भाजपा के शत्रु’ का लालू प्रेम, ट्वीट कर कहा – भगवान आपको शक्ति दें!

बता दें कि पिछले दिनों शत्रुघ्न ने कहा कि बीजेपी में हमेशा उन्हें सौतेले बेटे की तरह रखा. बोलने के सिवाय कभी कोई काम नहीं दिया. बता दें कि सिन्हा के पार्टी से लंबे वक्त से रिश्ते अच्छे नहीं चल रहे हैं. हालांकि, वो अब भी पार्टी में हैं और पटना साहेब से सांसद हैं.

शत्रुघ्न सिन्हा के अलावा यशवंत सिन्हा भी मोदी सरकार की कई मौकों पर सख्त आलोचना करते आए हैं. उन्होंने पिछले दिनों राष्ट्र मंच नाम का गैर सियासी संगठन बनाया है. इसमें शत्रुघ्न भी शामिल हैं. शत्रुघ्न ने न्यूज एजेंसी को दिए इंटरव्यू में कई मसलों पर बातचीत की. सिन्हा ने शुक्रवार को कहा था- मैं बता नहीं सकता कि अब मैं कितना आजाद महसूस कर रहा हूं. खुली हवा में सांस लेने का मजा ही कुछ और है. अब मैं देश की बेहतरी के लिए भी काम कर सकूंगा. अपनी बात खुलकर कह सकूंगा.

शत्रुघ्न ने कहा कि राष्ट्र मंच कोई चुनाव नहीं लड़ेगा. यानी ये कोई पॉलिटिकल पार्टी नहीं है. हम समाज में बदलाव के लिए काम करेंगे. लेकिन, ये बदलाव जुबानी जमाखर्च नहीं होंगे. बल्कि, हकीकत में बदलाव लाए जाएंगे. किसानों की खुदकुशी और फाइनेंशियल इश्यूज पर हम काम करेंगे. गरीबों की परेशानियों को कैसे खत्म किया जाए? इस पर भी विचार होगा. इसके अलावा बेरोजगारी, इंटरनल और एक्सटर्नल सिक्युरिटी भी हमारे एजेंडे में होंगे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*