बिहार में महिलाओं की सुरक्षा के लिए वाम दलों की मानव श्रृंखला, RJD ने भी किया समर्थन

मानव श्रृंखला, बिहार, वाम दल, राजद, भाकपा, माकपा, भाकपा माले, फॉरवार्ड ब्लॉक, RSP, NSUI, पटना , भाकपा माले , महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य

लाइव सिटीज डेस्क : मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण सहित तमाम शेल्टर होम की मुकम्मल जांच और बच्चियों-महिलाओं के न्याय को लेकर आज 28 अगस्त को वामदलों द्वारा मानव सृंखला बनाई गई है. यह मानव श्रृंखला पटना जंक्शन से लेकर डाकबंला चौक तक बनाई गई है. इस मानव श्रृंखला का राजद ने भी समर्थन किया है. प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे समेत आलोक मेहना और राजद के अन्य नेता इसमें मौजूद हैं. इस मानव श्रृंखला की शुरुआत दोपहर 12 बजे से हुई. वामदलों की यह मानव श्रृंखला राज्यभर में बनाई जाएगी. पटना में भाकपा माले के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य मुख्य रूप से मौजूद रहेंगे.

मानव श्रृंखला कार्यक्रम 12 से 1 बजे तक चलेगा

बता दें कि इस मानव श्रृंखला में भाकपा, माकपा, भाकपा माले के कार्यकर्ता शामिल हैं. साथ ही फॉरवार्ड ब्लॉक, RSP, NSUI के भी कार्यकर्ता शामिल होंगे. भाकपा माले के जिला सचिव निरंजन कुमार ने बताया कि मानव श्रृंखला कार्यक्रम मंगलवार को 12 से 1 बजे तक चलेगा. जिला मुख्यालय समीप अम्बेडकर पार्क से जीबी रोड रोड-गोलपत्थर मोड़ उतरी से किरानी घाट होते हुए गया-पटना रोड के पंचायती अखाड़ा तक मानव श्रृंखला बनाया जाएगा.

निष्पक्ष और मुकम्मल जांच का तकाजा है

वाम नेताओं का कहना है कि जांच की आंच जब नीतीश-मोदी तक पहुंचने लगी तो सीबीआई अधिकारी को बिना कोर्ट की अनुमति के ही तबादला कर दिया गया. नेताओं ने कहा कि निष्पक्ष और मुकम्मल जांच का तकाजा है कि नीतीश-मोदी तत्काल इस्तीफा दें. वामदलों के नेताओं ने दावा किया है कि कार्यक्रम में राज्यभर में बड़ी संख्या में महिला-पुरुष भाग लेंगे. इसमें बड़ी संख्या में संस्कृतिकर्मी और बुद्धिजीवी वर्ग के लोग भी भाग लेंगे.

सीएम-डिप्टी सीएम जिम्मेदार

वक्ताओं ने कहा कि वामदलों समेत लोकतांत्रिक ताकतों के आंदोलन के दबाव में मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में यौन शोषण-उत्पीड़न पर सरकार को सीबीआई जांच और इसकी निगरानी हाईकोर्ट के जज से कराने को बाध्य होना पड़ा. जांच से परत दर परत सच्चाई सामने आई है. कहा कि मंत्री मंजू वर्मा का इस्तीफा लिया गया, लेकिन भाजपा का एक मंत्री अभी भी मंत्रिमंडल में बना हुआ है, जिसके लिए सीधे तौर पर सीएम-डिप्टी सीएम जिम्मेदार हैं.

यह भी पढ़ें : मुजफ्फरपुर कांड की आज फिर होगी सुनवाई, कल CBI ने कोर्ट को सीलबंद रिपोर्ट सौंपी थी

मुजफ्फरपुर महापाप : CBI जांच की ख़बरें दिखाने-पब्लिश करने पर पटना हाई कोर्ट ने लगाई रोक

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*