मधुबनी के रहने वाले पूर्व राज्यपाल डीएन सहाय का निधन, सीएम नीतीश ने जताया शोक

पटना : पूर्व राज्यपाल डीएन सहाय के निधन पर जदयू में शोक की लहर है. जदयू के पार्टी कार्यालय में डीएन सहाय के सम्मान में पार्टी का झंडा झुकाया गया है. डीएन सहाय के निधन पर प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नरायन सिंह ने शोक जताया है. बता दें कि छत्तीसगढ़ और त्रिपुरा के पूर्व राज्यपाल दिनेश नंदन सहाय का लंबी बीमारी के बाद रविवार को पटना के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया. वह 82 वर्ष के थे. जानकारी के मुताबिक, दिनेश नंदन सहाय का पटना के मेडिका मगध हॉस्पिटल में रविवार की रात करीब साढ़े आठ बजे दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. वह 23 दिसंबर, 2017 से ही अस्पताल में भरती थे.

दिनेश नंदन सहाय का जन्म दो फरवरी, 1936 को बिहार के मधुबनी जिले के मधेपुर में हुआ था. मध्यमवर्गीय परिवार में जनमे दिनेश नंदन सहाय का पालन पोषण पटना में हुआ था. उनके पिता का नाम देवनंदन सहाय और माता का नाम किशोरी देवी था. उनकी पत्नी का नाम मंजू सहाय है. उन्हें एक बेटा और दो बेटियां हैं. उन्होंने अंगरेजी में एमए की डिग्री हासिल करने के बाद भोजपुर जिले के हरप्रसाद दास जैन कॉलेज, आरा में प्रवक्ता के रूप में अपने कॅरियर की शुरुआत की. इसके बाद वर्ष 1960 में मात्र 24 साल की अवस्था में भारतीय पुलिस सेवा के लिए चुन लिये गये. 

भारतीय पुलिस सेवा से सेवानिवृत्ति के बाद उन्होंने समता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली थी. एक नवंबर, 2000 को मध्यप्रदेश से पृथक होकर बने छत्तीसगढ़ राज्य के वह पहले राज्यपाल नियुक्त किये गये थे. वह वर्ष 2000 से 2003 तक छत्तीसगढ़ के राज्यपाल रहे. उसके बाद उन्होंने वर्ष 2003 में त्रिपुरा के राज्यपाल का पदभार संभाला.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दिनेश नंदन सहाय के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है. मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा कि दिनेश नंदन सहाय एक कुशल राजनेता, पुलिस अधिकारी एवं कर्मठ समाजसेवी थे. उनके निधन से न केवल राजनीतिक, बल्कि सामाजिक क्षेत्र में भी अपूर्णीय क्षति हुई है.

About Razia Ansari 1268 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*