तेजस्वी ने कहा- बिहार में बने RJD की सरकार, JDU का तंज- पहले प्रकिया पूरी करिये तब सोचिये

नेता प्रतिपक्ष, तेजस्वी यादव, कर्नाटक चुनाव, येदियुरप्पा, कुमारस्वामी, सिद्धारमैया, बिहार चुनाव, जदयू, कांग्रेस, rjd, lalu prasad yadav
तेजस्वी यादव और नीरज कुमार

लाइव सिटीज डेस्क : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के पुत्र और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कर्नाटक में सीएम पद के लिए बीजेपी की दावेदारी पर सवाल उठाते हुए कहा कि भाजपा हर मामले में अपना चलाना चाहती है. चित भी इनकी, पट भी इनकी. कर्नाटक के राज्यपाल अगर भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर रहे हैं तो राष्ट्रपति से हमारी मांग है कि पिछले दरवाजे से बनी सरकार को बर्खास्त करने का निर्देश देकर बिहार की सबसे बड़ी पार्टी को मौका मिलना चाहिए. लोकतंत्र में एक जैसे मामले में दो मापदंड नहीं होने चाहिए.

बिहार के जनादेश का चीरहरण

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा था कि अगर कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का निमंत्रण दिया गया है तो महामहिम राष्ट्रपति से माँग करते है कि वो राज्यपाल महोदय को बिहार के जनादेश का चीरहरण कर चोर दरवाज़े से बनी सरकार को बर्खास्त करने का निर्देश देकर बिहार की सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का निमंत्रण दिलवाए. तेजस्वी यादव ने भाजपा पर कर्नाटक में हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि अगर बिहार में चुनाव बाद गठबंधन को निमंत्रण देकर सरकार बनवाई जा सकती है तो कर्नाटक में क्यों नहीं. देश में एक ही संविधान है, लेकिन भाजपा ने उसका मजाक बना दिया है.

तेजस्वी ने कहा कि भाजपा किस जनादेश के अपमान की बात कर रही है? सबसे पहले उसने जदयू के साथ मिलकर जनादेश का अपमान किया था. अब कर्नाटक में भी वही किया जा रहा है. तेजस्वी ने पूछा कि भाजपा बहुमत साबित करने के लिए बाकी विधायक कहां से लाएगी? उन्होंने कहा कि कर्नाटक में भाजपा को सरकार बनाने का मौका दिया जाता है तो मैं सभी विपक्षी दलों से अपील करता हूं कि वे बेंगलुरू में एकजुट होकर धरना-प्रदर्शन करें.

कांग्रेस ने किया समर्थन, जदयू ने किया तंज

वहीं तेजस्वी यादव के इस बयान का समर्थन कांग्रेस ने भी किया है. कांग्रेस विधायक रामदेव राय ने कहा कि तेजस्‍वी परेड करें. हम उनके साथ हैं. कुछ लोग लोकतंत्र को बर्बाद कर रहे हैं. लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे. वहीं जदयू ने तेजस्वी के बयान पर पलटवार किया है. JDU प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि ‘तेजस्वी उस समय बहुमत का पत्र लेकर क्यों नहीं गये. पहले प्रकिया पूरी करिये तब परेड की सोचिये, उनके विधायक दुष्कर्म मामले में जेल में बंद हैं.

बता दें कि कर्नाटक में चुनावों के नतीजे आने के बाद भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी. लेकिन दूसरे नंबर पर खड़ी कांग्रेस ने तत्काल तीसरे नंबर की पार्टी JDS के नेता कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री बनाने का न्योता देकर भाजपा की राह रोकने की कोशिश की थी. इस बीच भाजपा को राज्यपाल ने सरकार बनाने का न्योता दिया. सरकार बनाने के दावे को लेकर मची होड़ के बीच कांग्रेस और जेडीएस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, लेकिन राज्यपाल के बाद उन्हें सुप्रीम कोर्ट से भी निराश होकर लौटना पड़ा. गुरुवार की सुबह बीएस येद्दयुरप्पा को राज्‍यपाल ने मुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिलाई.

यह भी पढ़ें : भाजपा पर तंज : ‘पहले बिहार में लोकतंत्र का मर्डर किया गया, अब यही सब कर्नाटक में हो रहा है’

गौरतलब है कि विधानसभा की कुल 224 में से 222 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 104, कांग्रेस को 78, सहयोगी बसपा के साथ जदएस को 38 और अन्य को दो सीटें मिली हैं. ऐसे में बहुमत के लिए जरूरी 112 के आंकड़े के सबसे करीब भाजपा ही रही.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*