मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप केस: CBI की बड़ी कार्रवाई, CWC के पूर्व अध्यक्ष दिलीप वर्मा अरेस्ट

bihar, muzaffarpur shelter home rape case, CBI, arrest, CWC president, madhu, bihar rape, bihar

लाइव सिटीज डेस्क: बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में हुए यौन उत्पीड़न मामले में सीबीआइ ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सीडब्ल्यूसी के पूर्व अध्यक्ष दिलीप वर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. इसके साथ ही ब्रजेश ठाकुर की राजदार मधु के दो परिजनों को भी सीबीआई ने हिरासत में लिया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआइ ने अहले सुबह ही दिलीप वर्मा को उनके आवास से गिरफ्तार किया है. कहा जा रहा है कि दिलीप वर्मा से पूछताछ के बाद इस कांड से जल्द पर्दा उठ जाएगा.

पटना हाईकोर्ट से मिले निर्देश के बाद सीबीआई ने सघन जांच की शुरुआत की थी. पटना हाईकोर्ट मुजफ्फरपुर बालिका गृह में नाबालिग लड़कियों के साथ हुए रेप की घटना की मॉनिटरिंग करेगा. बलिका गृह में लड़कियों के साथ हुए रेप के मामले में पटना हाईकोर्ट ने सीबीआई को नोटिस जारी करते हुए केस में अब तक की गई कार्रवाई का ब्यौरा मांगा.

क्या है मामला

बता दें कि मुजफ्फरपुर स्थित बालिका गृह में रहने वाली करीब 40 लड़कियों का यौनशोषण किया गया और उन्हें शारीरिक-मानसिक प्रताड़ना दी गई. इसका खुलासा टिस की रिपोर्ट से हुआ. जिसके बाद बालिका गृह के संचालक ब्रजेश ठाकुर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. ब्रजेश ठाकुर संचालित बालिका गृह की पोल खुलने के बाद बिहार की समाज कल्याण मंत्री के पति की संलिप्तता पाए जाने के बाद उन्हें मंत्रीपद से इस्तीफा देना पड़ा था.

सीबीआइ इस मामले की जांच कर रही है और सुप्रीम कोर्ट ने इस कांड पर स्वतः संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार के साथ ही केंद्र सरकार को फटकार लगाई थी. इस मामले की सुनवाई सु्प्रीम कोर्ट में चल रही है और आज इस मामले में कोर्ट में सुनवाई होनी है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीबीआई कई ठिकानों पर गुप्‍त छापेमारी भी कर रही है. बता दें कि सीबीआई की टीम केस के आईओ सहित तीनों अधिकारियों के साथ केस से जुड़े सभी पहलुओं की जांच कर रही है.

यह भी पढ़ें- BREAKING : मुजफ्फरपुर महापाप मामले में तीन ​अधिकारी हिरासत में, CBI कर रही पूछताछ

About Razia Ansari 1935 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*