Important News: 15 अक्टूबर से 10 दिनों तक बंद रहेगा पटना HC, दुर्गा पूजा का रहेगा अवकाश

PHC-patna, बिहार, पटना, क्राइम, नीतीश कुमार, हत्या मामला , चुनाव, Bihar, Patna, Nitish Kumar, Patna High court

लाइव सिटीज, पटना: बुधवार से 10 दिनों तक चलनेवाले नवरात्रि के इस महा-उत्सव को लेकर पटना हाईकोर्ट में भी 15 से 24 अक्टूबर तक अवकाश की घोषणा कर दी गई है. कोर्ट के नोटिफिकेशन के मुताबिक पटना हाईकोर्ट 15 से 24 अक्टूबर तक बंद रहेगा. कोर्ट फिर से 25 अक्टूबर को खुलेगा. पटना हाई कोर्ट के अधिवक्ता जरुरी कामों को निबटाने में जुटे हैं. क्योंकि हाई कोर्ट लगभग 10 दिनों तक बंद रहेगा. 10 दिनों की छुट्टी की वजह से अदालतों पर कामकाज का बोझ बहुत बढ़ गया है. अधिवक्ता से लेकर वकील तक अपना काम निबटाने में जुटे हैं. आपको भी हाई कोर्ट में कोई काम है तो 14 अक्टूबर से पहले निबटा लें.

कैदियों को सबसे से ज्यादा दिक्कत होगी

10 दिन तक न्यायिक कार्य नहीं होने से जेलो में बंद विचाराधीन कैदियों को सबसे से ज्यादा दिक्कत होगी. क्योंकि कई कैदियों कि जमानत याचिकाएं विचाराधीन हैं. लेकिन अवकाश के चलते अब सुनवाई नहीं हो पाएगी. अवकाश शुरू होने से पहले ही प्रयास किया गया कि मामलो को लंबित नहीं रखा जाए. लेकिन उसके बावजूद कई मामले लंबित रह गए हैं.

गुरुवार को अधिवक्ताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद से मुलाकात की. प्रतिनिधिमंडल में शामिल अधिवक्ताओं ने इस वर्ष मई में शताब्दी समारोह के आयोजन के लिए उनके मंत्रालय की ओर से जारी फंड के दुरुपयोग किये जाने के मामले की जांच कराने की मांग की. प्रतिनिधिमंडल में शामिल पटना हाई कोर्ट अधिवक्ता संघ की संयुक्त सचिव छाया मिश्रा भी शामिल थीं.

इस संबंध में पटना हाई कोर्ट अधिवक्ता संघ की संयुक्त सचिव छाया मिश्रा ने गुरुवार को पटना में बताया कि प्रतिनिधिमंडल ने मंत्री रविशंकर प्रसाद से मुलाकात कर उन्हें 26 पृष्ठों का ज्ञापन सौंपा. इसमें मामले की जांच कर चुकी पांच सदस्यीय समिति की रिपोर्ट भी शामिल है. रिपोर्ट में संघ के पदाधिकारियों द्वारा मंत्रालय से प्राप्त फंड की राशि का दुरुपयोग किये जाने की पुष्टि की गई है.

यह भी पढ़ें- पटना हाई कोर्ट के अधिवक्ताओं ने की रविशंकर प्रसाद से मुलाकात, फंड के दुरुपयोग का उठाया मामला

RERA Approved वीआईपी रेजीडेंसी हो चला तैयार, अभी बुकिंग पर Alto Car फ्री

मुलाकात के दौरान केंद्रीय मंत्री को बताया गया कि शताब्दी समारोह के आयोजन के लिए न्यायाधीशों से मिले चंदे की राशि का संघ के पदाधिकारियों ने विवरण तक नहीं दिया है. मंत्री ने इस मामले में उचित कारवाई का आश्वासन दिया है. उन्होंने बड़े ध्यान से अधिवक्ताओं की शिकायतें सुनीं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*