लाइव सिटीज, पटना: जदयू के प्रदेश अध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य वशिष्ठ नारायण सिंह ने आज 16 सितंबर को जदयू राज्य कार्यकारिणी समिति की बैठक बुलाई है. यह बैठक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के घर पर ही होगी. बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद रहेंगे. इस दौरान लोकसभा चुनाव पर बातचीत होगी और रणनीति बनाई जाएगी. पार्टी सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में 2019 के आम चुनाव में बीजेपी के साथ गठबंधन और सीटों के बंटवारे को लेकर अंतिम फैसला लिया जा सकता है.

प्रदेश महासचिव व मुख्यालय प्रभारी अनिल कुमार ने बताया कि पार्टी की यह महत्वपूर्ण बैठक सुबह 11 बजे से मुख्यमंत्री आवास पर होगी. प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष और सीएम नीतीश कुमार, प्रधान महासचिव केसी त्यागी, राज्य कार्यकारिणी के सभी सदस्य, विधानमंडल दल के सभी सदस्य तथा पार्टी के सभी जिलाध्यक्ष उपस्थित रहेंगे.

सीएम नीतीश बताएंगे अपना एजेंडा

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और सांसद आरसीपी सिंह ने कहा कि यह बैठक महत्वपूर्ण है. इसमें विशेष रूप से संगठन को मजबूती देने, पंचायत स्तर तक पार्टी को सुदृढ़ करने, सरकार द्वारा चलाए जा रहे सात निश्चय समेत अन्य विकास कार्यों का प्रचार-प्रसार पर विचार किया जाएगा.

सीट शेयरिंग की घोषणा

बैठक में मुख्यमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार रहेंगे तो तय है कि लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी के सभी नेताओं से फीडबैक लेंगे और उन्हें अपना एजेंडा बताएंगे. एनडीए के लिए यह बैठक महत्वपूर्ण माना जा रहा है. यह कयास भी लगाए जा रहे हैं कि जदयू इस बैठक के बाद सीट शेयरिंग की घोषणा कर सकती है.

हालांकि अभी तक मीडिया को बैठक के एजेंडे के बारे में जानकारी नहीं दी गयी है. लेकिन जदयू के वरिष्ठ नेता आरसीपी सिंह के बयान के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि आज होने वाली जदयू की बैठक में निश्चित तौर पर बीजेपी के साथ गठबंधन और सीटों के बंटवारे को लेकर प्रमुख रूप से चर्चा हो सकती है तथा बीजेपी से गठबंधन को लेकर जदयू कोई बड़ा फैसला भी ले सकता है.

यह भी पढ़ें- शराब के धंधे में लगे लोगों पर निगरानी रखी जाए, थानेदारों पर तत्काल एक्शन लें SP : CM नीतीश

इस बात के संकेत पार्टी के वरिष्ठ नेता आरसीपी सिंह के उस बयान से मिलते हैं जिसमे उन्होंने कहा कि बिहार में कोई बड़ा और कोई छोटा भाई नहीं है. गौरतलब है कि बिहार में 2019 के चुनावो के गठबंधन के लिए सीटों के बंटवारे के मुद्दे पर बीजेपी ने खुद को बड़ा भाई बताते हुए ज़्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने की मंशा जताई थी.