‘लालू लीला’ पर शुरू हुई सियासत, RJD बोली- सुशील मोदी खुद पर लिखे किताब, वो हैं कौन

लाइव सिटीज, पटना (देवांशु प्रभात): राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाले उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी उनके ऊपर एक 300 पेज की किताब लिखी है. इस किताब का नाम है ‘लालू लीला’. आज इस किताब की लॉन्चिंग है. लेकिन इस किताब को लेकर बिहार में राजनीतिक जंग शुरू हो गई है. बुक के लोकार्पण में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, राधामोहन सिंह, रामकृपाल यादव शहनवाज हुसैन मौजूद रहेंगे. ये सभी नेता पटना पहुंचे हैं.

बढ़ा दी गई है सुरक्षा

बुक के लोकार्पण में किसी तरह की गड़बड़ी न हो इसके लिए विद्यापति भवन की सुरक्षा बढ़ा दी गई है जहाँ यह किताब लांच होने वाली है. साथ ही डीएम, एसपी को पटना में प्रभात प्रकाश की दुकानों पर सुरक्षा बढ़ाने का निर्देश दिया गया है.

सरकार को कामकाज में ध्यान देना चाहिए- शरद यादव

इसके साथ ही बिहार की सियासत इस पर खूब गर्म है. जबसे इस बुक की चर्चा छिड़ी है विपक्ष इसको लेकर बीजेपी पर निशाना साध रहा है. साथ ही सुशील मोदी पर राजद की तरफ से प्रतिक्रिया आई है. और समाजवादी नेता शरद यादव ने भी ट्वीट कर इस बुक की आलोचना की है. शरद यादव ने लिखा है कि बताइए जिस राज्य में सरकार हर मोर्चे पर असफल हो रही हो यहां तक कि बच्चियां स्कूल जाना छोड़ दें वहां पर पूरी व्हवस्था एक ही परिवार के पीछे अपनी एनर्जी को लगा रही है जैसा की अब एक किताब लिख डाली यह ठीक नहीं है. जबकि कोर्ट में मामले चल रहे हैं सरकार को अपने कामकाज में ध्यान देना चाहिए.

क्या कहा भाई वीरेंद्र ने

सुशील मोदी द्वारा लिखित पुस्तक पर राजद के भाई वीरेंद्र ने कहा सुशील मोदी को सबसे पहले खुद पर किताब लिखनी चाहिए. आखिर सुशील मोदी हैं कौन. सुशील मोदी का परिवार राजस्थान से आया था और सिर्फ एक बेडशीट लेकर बिहार आया था. और आज सुशील मोदी के बहन और भाई अरबों रूपये के मालिक बन गए हैं. पब्लिक डोमेन में सबसे पहले ये बताना चाहिए ये रुपये आये कहां से. सुशील मोदी को पहले अपना परिचय देना चाहिए, कि आखिर वो कहां से आयें और बिहार आकर कितना पैसा कमाये और नोचे.

उन्होंने आगे कहा कि लालू यादव के खिलाफ जो भी लिखेंगे, जनता उसे मानने को तैयार नहीं होगी. चारा घोटाले में साजिश के तहत फंसा कर
ये लोग अपनी राजनीति कर रहे हैं और देश को लूटने का काम कर रहे हैं. देश की जनता जानती हैं कि नीरव मोदी, पीएम मोदी का संबंधी है और सुशील मोदी का भी दूर-दूर का संबंधी होंगे. देश की गाढ़ी कमाई को विदेशों में जमा करने काम कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें- बुक पॉलिटिक्स: सुशील मोदी ने लिखी ‘लालू लीला’, तो शशि थरूर ने पीएम मोदी पर लिखी किताब

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि सुशील मोदी अच्छी तरह जानते हैं कि अगर वे लालू के बारे में नहीं लिखेंगे और बोलेंगे तो मीडिया में उन्हें जगह नहीं मिलेगी. और यही वजह है कि वह हमेशा गरीबों के मसीहा लालू के बारे में अनाप-शनाप बोलते और लिखते रहते हैं. सुशील मोदी के किताब पर पूछे जाने पर उन्होंने कहा इस बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है, लेकिन जो भी है बकवास है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*