पटना में चल रही है RJD विधायक दल की बैठक, आज तेजस्वी के साथ सड़क पर उतरेंगे नेता

बिहार समाचार , कर्नाटक चुनाव , राजद , तेजस्वीी यादव, धरना , Bihar politics , RJD , KarnatakaVerdict , BJP , Political drama bihar politics , राबड़ी देवी, राज्यपाल सत्यपाल मलिक,
तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बनाने के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने की तैयारी विपक्षी पार्टियों की चल रही है. राजद अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव के पुत्र और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के आवास पर इसको लेकर बैठक चल रही है. बैठक तेजस्वी यादव के नेतृत्व में चल रही है. इस बैठक में राबड़ी देवी, शिवानंद तिवारी और तेज प्रताप यादव समेत कई राजद के दिग्गज नेता शामिल हैं. राजद इस बैठक के बाद राजभवन के साथ केंद्र तथा राज्य सरकार को घेरेगी. पार्टी ने कर्नाटक के मुद्दे पर शुक्रवार को राजधानी सहित पूरे बिहार में धरना-प्रदर्शन का आयोजन किया है. राजद की मांग है कि राज्‍यपाल कर्नाटक की तर्ज पर बिहार में भी पार्टी को सरकार बनाने का मौका दें.

सड़क पर उतरेगा राजद

बता दें कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने गुरुवार को कहा था कि अगर कर्नाटक के राज्यपाल सबसे बड़े दल होने के आधार पर भाजपा को सरकार बनाने का मौका दे सकते हैं, तो उसी आधार पर बिहार में राजद को यह मौका क्यों नहीं मिलना चाहिए? तेजस्वी आज शुक्रवार को राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मिलकर यह दावा भी पेश करेंगे. पार्टी ने सभी विधायकों को आनन-फानन में पटना पहुंचने का निर्देश दिया गया है. कांग्रेस के विधायक भी पटना बुलाए गए हैं. हम के अध्यक्ष जीतनराम मांझी भी इसमें शामिल होंगे. राजद, कांग्रेस और हम के 108 विधायक राजभवन मार्च की तैयारी में हैं.

राजद उपाध्‍यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने कर्नाटक के राज्यपाल पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहा त्रिशंकु विधानसभा होने पर सबसे पहले चुनाव पूर्व गठबंधन को सरकार बनाने के लिए बुलाना चाहिए. अगर उसके पास बहुमत नहीं है तो चुनाव बाद बनने वाले गठबंधन को बुलाया जाना चाहिए. अगर दोनों के पास बहुमत नहीं है तो सबसे बड़ी पार्टी को मौका देना चाहिए. किंतु कर्नाटक में यह नहीं हुआ.

यह भी पढ़ें : कर्नाटक में बने सरकार के खिलाफ धरने पर बैठ गए हैं यशवंत सिन्हा, बोले IPL चल रहा है

राजद नेताओं ने कहा कि गोवा, मणिपुर और मेघालय में सबसे बड़े दल नहीं होने के बावजूद चुनाव बाद गठबंधन के आधार पर भाजपा ने सरकार बनाई तो बिहार में क्यों नहीं. बिहार में सबसे बड़े दल को आमंत्रित न कर उस गठबंधन को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया गया, जिसके एक घटक को विपक्ष में बैठने का जनादेश मिला था.

About Razia Ansari 1914 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*