‘केंद्र और राज्य में सरकार आपकी, साहब ! फिर विशेष राज्य का दर्जा किससे मांग रहे हैं’

Lalu Prasad, Tejashwi Yadav, RJD, BJP, JDU, HAM लालू प्रसाद, नीतीश कुमार,
तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग एक बार फिर उठ गई है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने बिहार को विशेष राज्य के दर्जे देने की मांग को लेकर जदयू और भाजपा की भूमिका पर सवाल खड़े किये हैं. तेजस्वी यादव का कहना है कि राजद बिहार के विभाजन के बाद से ही राज्य को विशेष दर्जे की मांग करता रहा है. नीतीश कुमार ने ही प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के सामने इसका विरोध किया था. अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस मुद्दे को राजनीतिक लाभ के रूप में ले रहे हैं.

तेजस्वी यादव का ट्वीट

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर बिहार के सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील मोदी को घेरा है. उन्होंने लिखा है कि बिहार में बीजेपी-नीतीश की सरकार, दिल्ली में बीजेपी-नीतीश की सरकार, साहब, फिर विशेष राज्य का दर्जा किससे माँग रहे हो? हमसे या जनता से? “जब मियाँ,बीवी और काज़ी राजी फिर क्यों है यह नूरा-तीरदांजी” जनता इतनी भी भोली नहीं है? रामबिलास जी,नीतीश जी,सुशील मोदी जी जवाब तो देना पड़ेगा?

तेजस्वी यादव ने कहा कि भाजपा और जदयू दोनों ही बिहार को स्वप्न भूमि के रूप में देख रहे हैं. बीजेपी अौर जदयू की डबल इंजन वाली सरकार है. दोनों पार्टियां बिहार को विशेष राज्य के दर्जे दिये जाने की मांग का समर्थन कर रही हैं, लेकिन इनमें से कोई पार्टी यह बताने को तैयार नहीं है कि इस मांग को पूरा होने में कौन सी रुकावट सामने आ रही है. इन दोनों का यह स्टैंड आश्चर्यजनक और हास्यास्पद है.

यह भी पढ़ें : तेजस्वी का आरोप : नीतीश कुमार की वजह से बिहार को नहीं मिल रहा है विशेष राज्य का दर्जा

बता दें कि तेजस्वी यादव पहले भी यह आरोप लगा चुके हैं कि नीतीश कुमार की वजह से बिहार को स्पेशल स्टेटस का दर्जा नहीं मिल पा रहा है. तेजस्वी यादव ने कहा था कि स्पेशल पैकेज को लेकर बिहार को धोखा मिला है. सीएम नीतीश कुमार की वजह से ही बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिल सका है. तेजस्वी यादव ने याद दिलाते हुए कहा कि सबसे पहले अटल बिहारी वाजपेयी की जब केंद्र में सरकार थी तभी बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग उठी थी. लेकिन नीतीश कुमार की वजह से ही बिहार को स्पेशल स्टेटस नहीं मिल सका.