कठुआ मामले में अब तक चुप हैं CM नीतीश, तेजस्वी ने कहा- नागपुर से सिग्नल नहीं मिला

नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव, बिहार politics, बिहार हिंदी न्यूज़, बीजेपी, जदयू, महागठबंधन, कांग्रेस

लाइव सिटीज डेस्क : कठुआ गैंग रेप केस और उन्नाव मामले में काफी लंबी चुप्पी के बाद पीएम मोदी ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी. लेकिन अभी तक इस पूरे मामले पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कुछ भी नहीं बोला है. हालांकि इस कठुआ मामले में पूरा देश उबाल पर है. देश के कोने कोने में इसको लेकर प्रदर्शन हो रहे हैं. बिहार की राजधानी पटना सहित बिहार के कई जिलों में भी प्रदर्शन हो रहे हैं.

कठुआ मामले में विपक्ष में भी आक्रोश

विपक्षी पार्टियां भी इस मामले में सरकार को घेर रही हैं. कांग्रेस ने तो आधी रात को कैंडल मार्च निकल कर इसका विरोध किया था. बिहार में भी विपक्ष आक्रामक है. कुछ दिन पहले राज्यसभा सांसद मीसा भारती और और पूर्व हेल्थ मिनिस्टर तेज प्रताप यादव ने भी कठुआ मामले में अपना गुस्सा और दुःख जताया था.

तेजस्वी यादव का ट्वीट

अब इस मामले में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी ट्वीट किया है. अपने ट्वीट में उन्होंने सीएम नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. और कठुआ मामले में नीतीश कुमार की चुप्पी पर सवाल उठाया है. उन्होंने लिखा है कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार आखिर कठुआ और उन्नाव मामले पर चुप क्यों हैं. क्या वह नागपुर और दिल्ली से सिग्नल मिलने का इंतज़ार कर रहे हैं. उन्होंने लिखा कि इस मामले पर बिना किसी डर के बोलना चाहिए. ऐसी क्रूरता का विरोध और निंदा करनी चाहिए.

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं है जब तेजस्वी यादव ने नागपुर का नाम लेकर नीतीश कुमार पर तंज किया है . इससे पहले भी तेजस्वी यादव ने बिना आरएसएस का नाम लिए नीतीश सरकार का रिमोट कंट्रोल आरएसएस के हाथ में होने की बात कही है. तेजस्वी ने नीतीश पर आरोप लगाते हुए कहा था कि नीतीश सरकार नागपुर से कंट्रोल हो रही है. जिस दिन से बीजेपी के साथ गए हैं उनके हाथ में कुछ नहीं रहा.

कठुआ रेप केस मामले में आज से स्थानीय अदालत में सुनवाई

बता दें कि कठुआ रेप केस मामले में आज से स्थानीय अदालत में सुनवाई शुरू होगी. लेकिन जम्मू-कश्मीर पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम को जिस तरह से वकीलों के एक समूह ने जिला अदालत में आरोपपत्र दाखिल करने से रोकने की कोशिश की थी, इसे देखते हुए मारी गई बच्ची के परिवार ने फ़ैसला किया है कि वो सुप्रीम कोर्ट से केस की सुनवाई किसी और राज्य में करने की मांग करेगा. पीड़ित पक्ष की वकील दीपिका सिंह ने कहा, “हमें नहीं लगता कि कठुआ में ट्रायल के लिए ठीक माहौल है. इसीलिए हम केस को जम्मू-कश्मीर से बाहर ले जाने की मांग करने जा रहे हैं.

About Razia Ansari 1935 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*