जन्माष्टमी पर तेजप्रताप की कामना, हे मुरलीधर! राक्षसों का वध कर बिहार को फिर से पवित्र करें

तेज प्रताप यादव (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और पूर्व हेल्थ मिनिस्टर तेजप्रताप यादव का कृष्ण प्रेम तो जगजाहिर है. वह भगवान कृष्ण के इतने बड़े भक्त हैं कि कभी-कभी तो वह खुद कृष्ण कन्हैया का रूप धर लेते हैं. तेज प्रताप ना सिर्फ कन्हैया की तरह सजते हैं बल्कि बांसुरी भी बहुत अच्छा बजा लेते हैं. आज जन्माष्टमी है. तेजप्रताप यादव ने बिहार वासियों को जन्माष्टमी की बधाई दी. साथ ही भगवान कृष्ण से एक कामना भी की.

बिहार की भूमि से राक्षसों का वध करें

तेज प्रताप यादव ने ट्विटर पर लिखा है कि कृष्ण पक्ष की पावन अष्टमी पर अवतरित हुए भगवान देवकीनंदन ने संपूर्ण ब्रज को आनंदित किया, हे मुरलीधर उसी प्रकार अपनी कृपा से हमारे बिहार की भूमि से राक्षसों का वध कर बिहार को फिर से पवित्र करें. यदा यदा ही धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत अभ्युथानम् अधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम्।।

अनोखे अंदाज के लिए जाने जाते हैं तेजप्रताप

बता दें कि तेजप्रताप यादव राजनीति से ज्यादा अपने अनोखे अंदाज के लिए जाने जाते हैं. विरोधियों पर हमला करते हुए तो वह बिलकुल अपने पिता की तरह बोलते हैं. लेकिन अपनी अलग वेशभूषा के लिए भी वह अक्सर चर्चा में रहते हैं. तेजप्रताप जब मथुरा गए थे और वहां उन्होंने कृष्ण भक्ति पर लोगों का खूब मनोरंजन किया था. यही नहीं एक बार वो बावर्ची के रूप में जलेबियां भी छानते नजर आए थे. तेज प्रताप के कृष्ण अवतार को देखते हुए प्रधानमंत्री ने उन्हें कन्हैया कहकर संबोधित किया था.

आज जन्माष्टमी पर उन्होंने कृष्ण रूप तो नहीं धरा लेकिन अपने मुरलीधर से वह बिहार को बचाने की कामना जरुर कर रहे हैं. इससे पहले वह सावन में बाबाधाम की यात्रा पर गए थे और शिव का रूप धरा था. अभी लालू परिवार कानूनी पचड़ों में फंसा हुआ है तो अपने अपरिवर को मुसीबत से बचाने के लिए हाल ही में तेजप्रताप यादव काशी गए हुए थे.

यह भी पढ़ें : लालू फैमिली पर आये संकट को लेकर तेजप्रताप यादव पहुंचे बनारस, बाबा दरबार में लगाई हाजिरी

रिम्स पहुंचे तेजप्रताप, बोले- तबीयत ठीक नहीं है लालू जी की, पर भगवान पर पूरा भरोसा है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*