लाइव सिटीज डेस्क : बिहार की राजधानी पटना के राजीव नगर इलाके में आसरा शेल्टर होम में पिछले दिनों 2 महिलाओं की संदिग्ध मौत की गुत्थी अभी सुलझी भी नहीं कि यहां रह रही महिलाओं की तबीयत बिगड़ने का सिलसिला लगातार जारी है. राजधानी के आसरा होम की सभी 65 महिलाओं के स्वास्थ्य जांच के खुलासे के बाद प्रशासन सकते में है. सभी महिलाएं एनिमीया और कुपोषण की शिकार है. जो एक के बाद एक पीएमसीएच में भर्ती की जा रही है.

आज दो महिलाओं को PMCH भर्ती कराया गया

आज भी दो महिलाओं को पीएमसीएच में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है. अस्पताल में भर्ती कराई गई महिलाओं में से एक की उम्र 34 साल और दूसरी की उम्र 28 साल है. एक के पेट दर्द की शिकायत है. उसके पेट का अल्ट्रासाउंड कराया गया है. वहीं, दूसरी महिला के सिर में चोट है. उसका सीटी स्कैन कराया गया है. डाक्टरों ने गिरने के कारण सिर में चोट लगने की बात कही है.

तीन महिलाएं पहले से PMCH में भर्ती

बता दें कि पटना के आसरा शेल्टर होम की तीन महिलाएं पहले से पीएमसीएच में भर्ती हैं, जिसका इलाज चल रहा है. तीनों कुपोषण की शिकार थी. इन तीनों को चक्कर आने की शिकायत है. इनके स्वास्थ्य में अब सुधार हो रहा है.

बता दें कि पटना के आसरा शेल्टर होम में हुई दो युवतियों की संदेहास्पद मौत के मामले में शेल्टर होम की कोषाध्यक्ष मनीषा दयाल और सचिव चिरंतन कुमार की गिरफ्तारी के बाद सोमवार को कोर्ट में पेशी हुई जिसके बाद कोर्ट ने दोनों को तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है. कोर्ट में पेशी के दौरान आसरा होम के सचिव चिरंतन ने एक बार फिर अपनी जान का खतरा बताया है.

यह भी पढ़ें : बिहार सरकार ने लिया बड़ा फैसला, शेल्टर होम चलाने वाले 50 नए NGO का चयन किया रद्द