6 साल से चन्द्रमा चला रहा था प्रार्थना सभा, शैतान निकालने के नाम पर करता था गंदी हरकत

पटना : रेप केस में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया चन्द्रमा राज धर्म का ठेकेदार बन चुका था. धार्मिक बातें कर महिलाओं को वो अपने झांसे में लेता था. महिलाओं की परेशानियों को वो पहले अच्छे से समझ लेता था. फिर उनकी कमजोर कड़ी को जान लेने के बाद ये अपनी चाल चलता था.

धार्मिक बातें कर परेशान महिलाओं को वो अपने झांसे में लेता था. प्रभु से मिलाने और शरीर से शैतान को दूर करने की बात कह अकेले में महिलाओं से ​मिलता था. शैतान को दूर करने के नाम पर उनके साथ गंदी हरकतें करता था. जबरन शारीरिक संबंध बनाता था. विरोध करने पर महिलाओं को धार्मिक ग्रंथ का हवाला देता था.

कंप्लेन करने वाली एक पीड़िता की मानें तो शरीर से शैतान को दूर करने के अपने गंदे तरीके को चन्द्रमा राज धार्मिक ग्रंथ में लिखे होने की बात कहता था. पीड़िता की मानें तो इस तरह की गंदी हरकत उसने एक—दो नहीं, बल्कि कई महिलाओं के साथ की है. अगर पटना पुलिस सही से मामले की जांच करे तो और कई नए मामले सामने आएंगे.

इस तरह से दे रहा था धोखा

इंडिया मिशन चर्च के नाम पर चन्द्रमा राज फादर बन महिलाओं का शारीरिक शोषण तो कर ही रहा था. इसके अलावे वो धर्म के नाम पर रुपयों की ठगी भी उनसे करता था. मिशन से जुड़े और प्रार्थना सभा में आने वाले महिलाओं और पुरूषों से उनकी कमाई का 10 परसेंट वो धर्म के नाम पर वसूला करता था. दादर मंडी में पिछले 6 साल से वो प्रार्थना सभा चला रहा था. प्रार्थना सभा हर रविवार को सुबह 7 से 10 और 10 से 2 बजे के अलग—अलग शिफ्ट में चलती थी.

खास बात ये है किे पिछले 4 साल से प्रार्थना सभा एक प्राइवेट मकान के पार्किंग में चल रही थी. इसके लिए हर महीने वो 4 हजार रुपए रेंट दिया करता था. जबकि इसके पहले 2 साल रेंट के ही दूसरे मकान में सब कुछ चल रहा था. महिलाओं का शारीरिक शोषण वो उनके घर या फिर अपने घर ले जाकर करता था. चन्द्रमा राज भद्र घाट के पास रेंट के मकान में रह रहा था.

फोकस महिलाओं को अधिक जोड़ने पर

मिशन के नाम पर चन्द्रमा महिलाओं को अपनी तरफ अट्रैक्ट करता था. उसका फोकस अधिक से अधिक महिलाओं को मिशन से जोड़ने पर होता थी. उसके रडार पर कम पढ़ी लिखी महिलाएं होती थीं. ताकि आसानी से वैसी महिलाओं को ये अपने झांसे में ले सके. जिस प्राइवेट मकान के पार्किंग एरिया में प्रार्थना सभा ये चलाया करता था, उसके मकान मालिक मनोज की मानें तो 75 परसेंट महिलाएं आया करती थीं. जबकि 25 परसेंट पुरूष ही की मौजूदगी होती थी. करीब 50 से अधिक महिलाओं को उसने मिशन से जोड़ रखा था.

लटका  मिला ताला

सोमवार को महिला थाना की टीम ने राजा बाजार में उस ठिकाने पर छापेमारी की, जहां नर्सिंग होम के नाम पर ​एक पीड़िता को ले जाया गया था. पुलिस टीम उस ठिकाने पर दो बार गई. लेकिन वहां बाहर से ताला लटका मिला. थानेदार विभा कुमारी की मानें तो वहां नर्सिंग होम नहीं है. वहां पर सिर्फ एक कमरा है, जिसके बाहर ताला लटका है. अब उनकी टीम इस मामले को गंभीरता से देख रही है. कमरे में कौन रहता था और किन—किन लोगों का आना—जाना वहां होता था, इसका पता लगाया जा रहा है.