DM के बयान पर विवाद, कहा – अगर शौचालय नहीं बनवा सकते तो पत्नी को बेच दो

Aurangabad-DM

औरंगाबाद : औरंगाबाद के जिलाधिकारी के एक बयान का मामला काफी वायरल हो रहा है. यह बयान घरों में शौचालय के निर्माण को लेकर औरंगाबाद के जिलाधिकारी कंवल तनुज ने दिया है. अपने बयान में उन्होंने कहा है कि अगर लोग अपने घरों में अपनी पत्नियों के लिए शौचालय का निर्माण नहीं करा सकते हैं तो उन्हें अपनी पत्नियों को बेच देना चाहिए.

मिल रही खबर के मुताबिक,  जिलाधिकारी तनुज शनिवार को औरंगाबाद जिले के जम्होर गांव में स्वच्छता अभियान मुहिम के दौरान लोगों को संबोधित कर रहे थे. अपने संबोधन में जिलाधिकारी ने कहा कि ‘शौचालयों की कमी के कारण महिलाओं को प्रताड़ना झेलनी पड़ती है और उनका बलात्कार होता है. जबकि एक शौचालय के निर्माण में केवल 12 हजार रुपये की लागत आती है. क्या 12 हजार रुपये किसी की पत्नी की मर्यादा से ज्यादा हैं? कौन 12 हजार रुपये के बदले अपनी पत्नी का बलात्कार होने दे सकता है?’

Aurangabad-DM

जिलाधिकारी ने अपना यह बयान एक अच्छे संदर्भ में दिया है और मामले की गंभीरता को ध्यान में रखकर दिया है लेकिन भाषा की तल्खी के कारण उन पर निशाना साधा जा रहा है. उन्होंने बात पर जोर देते हुए कहा कि यदि इस तरह की आपकी मानसिकता है, तब जाइए आप अपनी पत्नी को बेच दीजिए. जो लोग शौचालय का निर्माण नहीं करा सकते उन्हें अपनी पत्नियों को बेच देना चाहिए अथवा नीलामी कर देनी चाहिए.’

दरअसल जिलाधिकारी महोदय के इस तल्ख बयान का मकसद सिर्फ इतना है कि लोगों को अपने घरों में शौचालय का निर्माण करना चाहिए. इसका निर्माण बहुत महंगा नहीं है और घर की महिलाओं की इज्जत और आबरू के आगे यह खर्च कुछ भी नहीं है. गृहस्वामी को इस बात का ध्यान रखना चाहिए.