तारीख पर तारीख, फिर भी दिवाली के पहले नियोजित शिक्षकों को नहीं मिल सका वेतन

salary
प्रतीकात्मक फोटो

पटना : तारीख पर तारीख..तारीख पर तारीख..लेकिन फिर भी दीपावली से पहले नहीं मिल सका सूबे के नियोजित शिक्षकों को उनका वेतन. ऐसे में अब राज्य भर के लगभग 3.5 लाख नियोजित शिक्षक वेतन नहीं मिलने की वजह से अँधेरे में ही दिवाली मनाने को मजबूर हो गए. तमाम वादे किये गए, विभाग से आदेश/निर्देश दिया गया. शिक्षा मंत्री ने खुद भी पहल की, लेकिन फिर भी आज बुधवार 18 अक्टूबर तक किसी भी शिक्षक को वेतन का भुगतान नहीं हो पाया.

बता दें कि मंगलवार 17 अक्टूबर को ही बिहार सरकार के शिक्षा विभाग ने नियोजित शिक्षकों के अक्टूबर माह का वेतन भुगतान बुधवार, 18 अक्टूबर तक करने का आदेश दिया था. विभाग के प्रधान सचिव आर के महाजन द्वारा सभी जिलों के जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (स्थापना) को इस आशय का पत्र भेज कर सभी को बुधवार तक वेतन भुगतान सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया था. इसके बाद राज्य के माध्यमिक शिक्षा कार्यक्रम के अंतर्गत जिला परिषद्, नगर परिषद्, नगर निगम एवं नगर पंचायत के सभी नियोजित माध्यमिक/उच्च माध्यमिक शिक्षकों और पुस्तकालयाध्य्क्षों को आशा जगी थी कि अब दिवाली के पहले उन्हें वेतन मिल सकेगा.

इस संबंध में बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के मीडिया प्रभारी अभिषेक कुमार कहते हैं कि छठ के पहले भी वेतन अगर मिल जाए तो बहुत हैं. उन्होंने कहा कि अभी तो आवंटन ही हुआ है. आदेश के बाद आज बिल बनाकर ट्रेजरी में जमा कर दिया गया. ट्रेजरी से अब बैंक में जाने में भी दो से तीन दिनों का समय लगेगा ही. उनका कहना है कि नियोजित शिक्षक की बात तो छोड़ दें राज्य सरकार के सामान्य कर्मियों को भी विभाग के आदेशानुसार दिवाली के पहले वेतन का भुगतान नहीं हो सका है. अब छठ के पहले तक भी अगर वेतन का भुगतान हो जाए तो विभाग का आदेश सार्थक हो जाएगा.

गौरतलब है कि नियोजित शिक्षकों के वेतन भुगतान की मांग बहुत पुरानी है. अब पिछले चार महीने से वेतन की राह तकते नियोजित शिक्षकों को सरकार अपने संसाधन से एक महीने का वेतन देने की तैयारी कर रही है. प्रदेश के नियोजित शिक्षको का वेतन भुगतान सर्वशिक्षा अभियान मद से किया जाता है. केंद्र सरकार ने सर्वशिक्षा अभियान मद में अब तक राज्य सरकार को एडहॉक राशि के अलावा पहली किस्त मिलाकर कुल 1700 करोड़ रुपये ही मुहैया कराए हैं.

बिहार सरकार को उम्मीद थी कि सर्वशिक्षा अभियान मद की दूसरी किस्त अक्टूबर के पहले सप्ताह तक मुहैया करा दी जाएगी, परन्तु ऐसा हो नहीं पाया. त्योहार को देखते हुए राज्य सरकार ने अपने संसाधन से शिक्षकों को छठ पूजा के पहले वेतन देने का फैसला किया है. सर्वशिक्षा अभियान मद में केंद्र सरकार ने बिहार के लिए 10,500 करोड़ रुपये की योजना स्वीकृत की थी.