सीएम नीतीश की सौगात, खैरा गांव के लोगों को मिलेगा शुद्ध पेयजल

cm nitish

हवेली खड़गपुर/मुंगेर : (सुनील जख्मी के साथ प्रेमजीत की रिपोर्ट)

मंगलवार को मुख्यमंत्री अपने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार हेलीकाप्टर द्वारा खड़गपुर पहुंचने वाले थे लेकिन ऐन वक्त पर मुसलाधार बारिश के कारण सीएम के कार्यक्रम को तब्दील करते हुए सड़क मार्ग से ही खड़गपुर झील स्थित वाटर ट्रीटमेंट प्लांट में पेयजलापूर्ति का लोकार्पण करने के बाद खैरा गांव पहुंचे. सुबह 10 बजे ही ग्रामीण व आसपास के लोग खैरा स्थित सभा स्थल पर जुटना शुरू हो गए थे. लगभग पांच घंटे के इंतजार के बाद सीएम के खैरा पहुंचने पर लोगों ने उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया. भव्य और डिजिटल तकनीक के साथ बनाए गए पंडाल में महिलाओं की अच्छी खासी भागीदारी देखने को मिली.



उत्साहित महिलाएं विलंब के बावजूद बस मुख्यमंत्री की झलक पाने को आतुर दिखी. शुद्धपेयजल की समस्या से निजात मिलने की खुशी से अभिभूत ग्रामीण सुबह से ही कार्यक्रम स्थल पर बने भव्य पंडाल में अपनी जगह सुरक्षित करते दिखे. वे अपने सूत्र से सीएम के आगमन की सूचना लेते भी रहे. कार्यक्रम के पहले मूसलाधार बारिश ने जहां कार्यक्रम पर ही सवाल खड़ा कर दिया था लेकिन सीएम के सड़क मार्ग से आने की सूचना पाकर सभी कार्यक्रम स्थल पर जमे रहे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मंगलवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम से पांच घंटा विलंब से खड़गपुर पहुंचे.

सबसे पहले खड़गपुर झील स्थित वाटर ट्रीटमेंट प्लांट से पेयजलापूर्ति का लोकार्पण किया. खड़गपुर झील की मनोरम खुबूसरती को निहारा और काफी अभिभूत दिखे. इसके बाद सीएम अपने काफिले के साथ खैरा गांव पहुंचे और सभा को संबोधित किया. सीएम ने कहा कि खैरा के लोगों का दर्द वर्ष 2010-11 में मैने देखा. 5.0 की संख्या में अपंग और शरीर से लाचार हट्ठे कट्ठे आदमी ने जब उनसे कहा कि आपही कुछ कर सकते है और आप ही कुछ कीजिये की बात सुनकर मैने उसी दिन फैसला लिया कि खैरावासियों के लिये फलोराईड मुक्त शुद्धपेयजल उपलब्ध कराउंगा और आज 2.50 लाख गैलन की क्षमता का वाटर प्लांट झील पर स्थापित हुआ और लोगों को पेयजल उपलब्ध कराया गया.

आज यह खैरा गांव के लिये स्वर्णिम दिन है. उन्होंने कहा कि आने वाले 2 अक्टूबर से बाल विवाह और दहेज प्रथा जैसी सामाजिक कुरीतियों पर भी सरकार आघात करेगी और इस कोढ़ को मिटाने का हरसंभव प्रयास करेगी. उन्होंने लोगों से कहा कि जो व्यक्ति दहजे लेंगे आप उनकी शादियों में शिरकत नहीं करें.

पेयजल के बाद अब खैरा गांव के सड़क का होगा कायाकल्प-सीएम

सड़क मार्ग से सीएम के खैरा आगमन की सूचना के बाद प्रशासन के अधिकारियों के हांथ-पांव फूलने लगे. कारण था रमनकाबाद नहर से खैरा तक पहुंचने वाली जर्जर सड़क. गांव तक पहुंचने वाली सड़क की स्थिति ऐसी थी कि लोगों का चलना तक दूभर था और लोग स्थानीय नेताओं के साथ जनप्रतिनिधियों को भला-बुरा कहते और उनके अब तक उदसीन भाव को लेकर कोसते नजर आए. गांव की सड़क बारिश के बाद बजबजाती हुई नालियों में तब्दील नजर आया. गांव से उत्तर की ओर जाने वाली सड़क से नगर क्षेत्र सहित अन्य जगह से लोग दोपहिये व चारपहिये वाहनों से सभा स्थल पर फजीहत के साथ पहुंच रहे थे.

सभा के दौरान सीएम नीतीश कुमार ने सड़क की बदहाल स्थिति को लेकर कहा कि खैरा गांव तक पहुंचने के लिये सड़क का बुरा हाल है. खैरावासियों को शुद्धपेयजल मिल गया है अब इस गांव की सड़क का भी कायाकल्प होगा. ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार से इसके कायाकल्प करने को कहा और लोकस्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग सह ग्रामीण कार्य विभाग के सचिव को एक माह के अंदर खैरा की सड़कों को बनवाने का निर्देश दिया. जिसके बाद प्रशाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा. सीएम ने सभा के बीच विभाग के सचिव से ही खैरा की सड़क को दुरूस्त कर लेने को लेकर ग्रामीणों को आश्वस्त करने को कहा.


विधायक मेवालाल की अनुपस्थित रही चर्चा में, सीएम ने नाम तक नहीं लिया

मुख्यमंत्री की सभा के दौरान तारापुर विधानसभा क्षेत्र के विधायक डा. मेवालाल चैधरी नदारद रहे लेकिन उनकी अनुपस्थिति में पूर्व विधायक और उनकी धर्मपत्नी नीता चैधरी मौजूद थी. सीएम ने मंचासीन मंत्री राजीव रंजन सिंह ललन, मंत्री शैलेश कुमार, कपिलदेव कामत, कृष्णनन्दन प्रसाद वर्मा, जिला परिषद अध्यक्ष पिंकी कुमारी, खाद्य आपूर्ति विभाग के अध्यक्ष मो. सलाम, पूर्व विधायक अनन्त कुमार सत्यार्थी समेत विभाग के सचिव आदि का नाम लिया पर संबोधन में जदयू से निलंबित विधायक डा. मेवालाल चैधरी का एक बार भी नाम नही लिया और न ही जिक्र किया. सीएम के संबोधन और कार्यक्रम में विधायक मेवालाल की अनुपस्थिति चर्चा का विषय बना रहा. सनद रहे कि सीएम के कार्यक्रम की तैयारी की समीक्षा को लेकर सोमवार को विधायक मेवालाल चैधरी पहूंचे थे और ग्रामीणों के साथ बैठक कर रणनीति तैयार की थी.

यह भी पढ़ें – सच ये है : गिरिडीह से समस्तीपुर पढ़ने आया था गणेश, बन गया बिहार टॉपर
नैंसी हत्या मामले में दुष्कर्म या एसिड अटैक की बात को डीएसपी ने किया खारिज
लेडी अफसर को बचाने में IAS आशीष दहिया कूद गये पूल में