मुजफ्फरपुर में दवा कारोबारी को मारी गोली

lc-breaking

लाइव सिटीज डेस्क/मुजफ्फरपुर : खाकी का शहर में कम होता इकबाल और बदमाशों के बुलंद होते हौसलों की कीमत आज एक दवा कारोबारी को चुकानी पड़ गई. दवा कारोबारी का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने बदमाशों द्वारा लूट और छिनैती का विरोध कर दिया था. घटना देर रात उस वक्त हुई जब दवा कारोबारी अपनी दूकान बंद करके घर लौट रहे थे. बाइक सवार बदमाशों ने उन्हें पहले रोका फिर लूटने की कोशिश की. जब उन्होंने विरोध जताया तो पिस्टल से धुआंधार गोलियां झोंक दीं.

बताया गया कि अहियापुर के जीरो माइल में दवा कारोबारी मणि सिंह की दूकान है. दूकान और कारोबार काफी अच्छा चलता है. मणि सिंह रविवार रात अपनी दूकान बंद करके घर लौट रहे थे. बदमाशों को संभवत: उम्मीद रही होगी कि उनके पास अच्छी मात्रा में कैश होगा. इसी उम्मीद में बदमाशों ने उन्हें मीनापुर के धर्मपुर एनएच पर रोक लिया. बदमाश बाइक पर सवार बताए जाते हैं. बदमाशों ने उनसे झोला छीनने की कोशिश की. जब मणि सिंह ने शोर मचाते हुए विरोध किया तो बदमाशों को खुद के पकड़े जाने का भय हुआ और उन्होंने पिस्टल से उनके ऊपर गोलियों की बौछार कर दी. गोली लगते ही मणि सिंह गिर पड़े. उनके गिरते ही बदमाश माल लेकर मौके से रफू चक्कर हो गए.

crime

गोलियों की आवाज सुनकर आसपास के राहगीर और ग्रामीणों आ गए. उन्होंने तत्काल मणि सिंह को इलाज के लिए भर्ती करवाया. उनकी हालत अभी गंभीर बताई जाती है. समाचार लिखे जाने तक उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. डॉक्टर उनकी जान बचाने की कोशिश कर रहे हैं. इस घटना ने जिले में कानून और व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है.

इससे पहले दिन में कटरा के बरैठा गांव में मोबाइल दुकानदार को 10 लाख रुपये की रंगदारी न देने पर गोली मारने की धमकी मिली थी, जबकि शाम को हुई इस घटना से पुलिस पर जनता के भरोसे को कमजोर किया है.

यह भी पढ़ें :
‘जंगलराज क्या होता है, यूपी जाकर देखें सुशील मोदी’
‘नीतीश करवा रहे थे लालू का फोन टैप, अब दबाव बना रहे हैं’
लालू पर सुनवाई कल, मंगल पांडेय ने कहा- टेप मामले को ध्यान में रखेगा SC