पप्पू यादव के समर्थन में उतरे दीपांकर भट्टाचार्य, ट्वीट कर रिहाई की मांग, कहा- एंबुलेंस घोटाला उजागर करने का बदला ले रही सरकार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क:  पप्पू यादव की गिरफ्तारी का भाकपा माले के राष्ट्रीय महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने भी विरोध किया है. उन्होंने कहा है कि क्या सरकार पप्पू यादव द्वारा एंबुलेंस घोटाला उजागर करने का बदला ले रही है. क्या नीतीश कुमार कोविड के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई कर लड़ना चाहते हैं. पप्पू यादव को रिहा किया जाए.

इसके पहले पूर्व सीएम जीतनराम मांझी, वीआईपी अध्यक्ष व मंत्री मुकेश सहनी, आरजेडी विधायक तेजप्रताप समेत कई दलों के नेताओं ने पप्पू यादव का समर्थन करते हुए सरकार की इस कार्रवाई का विरोध किया है. इतना ही नहीं खुद उनकी पत्नी रंजीता रंजन ने भी नीतीश सरकार की इस कार्रवाई का विरोध करते हुए निशाना साधा है.

बता दें कि जाप सुप्रीमो पप्पू यादव को आज सुबह मंदिरी स्थित आवास से गांधी मैदान की पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इसके पहले उन्हें हाउस अरेस्ट किया गया था. पुलिस ने पप्पू यादव पर कोरोना गाइडलाइन तोड़ने का आरोप लगाया है. उन्हें गिरफ्तार करने के लिए पटना कोतवाली डीएसपी समेत पांच थानों के थानेदार उनके मंदिरी स्थित आवास पर पहुंचे थे. पुलिस को लग रहा था कि पप्पू यादव की गिरफ्तारी का जबर्दस्त विरोध होगा. वहीं हाउस अरेस्टिंग को लेकर पप्पू ने पुलिस को आश्वासन दिया कि कोरोना के दौर में वे घर से बाहर नहीं निकलेंगे. उन्होंने इसकी लिखित कॉपी भी कोतवाली डीएसपी को सौंपी. इसके बाद भी गांधी मैदान की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

जिस समय पप्पू यादव को गिरफ्तार किया गया था, उस समय वे अपने समर्थकों के साथ बैठे हुए थे. कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए वे अपने समर्थकों के साथ रणनीति बना रहे थे. किन-किन इलाकों में जाएंगे और किस-किस अस्पताल में जाएंगे, इस पर मंथन चल रहा था. तभी उनके आवास पर पुलिस आ धमकी. गौरतलब है कि पांच दिन पहले यानी 7 मई को पप्पू यादव अपने समर्थकों के साथ सारण पहुंच गए थे और बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के आवास पर ढंक कर रखे गए दर्जनों एंबुलेंस की पोल खोल दी थी. इसके बाद से वे बीजेपी के निशाने पर आ गए थे. लोग एंबुलेंस मामले से ही पप्पू यादव की गिरफ्तारी को जोड़कर देख रहे हैं.