बेटियों को जहर, बेटे को फांसी देकर फिर पिता ने की खुदकुशी

लाइव सिटीज डेस्क : सोमवार की शाम एक पिता ने अपने तीन बच्चों के साथ सल्फास खाकर खुदकुशी कर ली. घटना इस कदर निर्मम है कि इसे जिसने भी देखा कराह उठा. पिता ने पहले अपने तीन बच्चों को जहर दिया, दो बच्चों की मौत तो तत्काल हो गई. लेकिन तीसरे बेटे को मरते न देखकर पिता ने खुद अपने हाथों से उसे फांसी के फंदे पर चढ़ाकर मौत के घाट उतार दिया.


घटना नालंदा जिले के रहुई थाना क्षेत्र के मिल्कीपुर गांव की है. घटना इस घटना में गांव निवासी अनिरूद्ध पंडित के सहित 13 वर्षीय पुत्री ज्योति कुमारी, निशा कुमारी और एक पुत्र की मौत हो गई है. बताया गया कि सोमवार की शाम अनिरूद्ध पंडित अपने तीनों बच्चों के साथ गांव के निकट रेलवे लाइन के पास चला गया. वहां पर उसने ब्रेड में सल्फास की गोली रखकर सबसे पहले अपने तीनों बच्चों को खिला दी. इस हादसे में मौके पर ही दो बेटियों की मौत हो गई, जबकि बेटे की मौत जहर खाने के बाद भी नहीं हुई. बेटे को मरता नहीं देखकर पिता ने बेटे के गले में रस्सी का फंदा लगा दिया और खुद ही उसकी जान ले ली. बाद में पिता ने खुद सल्फास की गोली खाकर खुदकुशी कर ली.

ग्रामीणों का कहना है कि अनिरूद्ध पंडित की पत्नी का देहांत आज से पांच वर्ष पूर्व हो गया था्.पत्नी के मरने के बाद से ही घर में खाना बनाने को लेकर आपसी कलह बना रहता था. इस बात को लेकर अनिरूद्ध पंडित काफी कुंठित रहता था. घटना की जानकारी के बाद पूरे गांव में कोहराम मच गया. घटना की सूचना पर पुलिस ने सभी शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. गांव में एक साथ चार मौतों की खबर से तनाव की आशंका पर पुलिस ने गांव में सुरक्षा की तगड़ी व्यवस्था की है. गांव के आसपास भी भारी संख्या में पुलिस बल को लगाया गया है.

 

सदर एसडीपीओ निशित प्रिया ने बताया कि घटना के पीछे का असल कारण पारिवरिक विवाद नहीं होना बताया जा रहा है. एसडीपीओ ने बताया कि हालिया अनुसंधान में यह बात सामने आयी है कि अनिरूद्ध पंडित की पत्नी की मृत्यु पांच वर्ष पूर्व हो गयी थी. इस कारण से वह काफी परेशान रहता था. उस पर तीन-तीन बच्चों की जिम्मेवारी थी. इसी परेशानी से तंग आकर उसने यह कदम उठाया है. एसडीपीओ ने बताया कि अंत्यपरीक्षण रिपोर्ट के आने के बाद मौत के असल कारणों का पता चला पाएगा.

हालांकि अभी तक की जांच में मौत का कारण सल्फास की गोली खाना जान पड़ता है.