नया खुलासा : फिरौती की रकम के बंटवारे में हुआ बबलू दुबे का मर्डर !

बेतिया : बबलू दुबे हत्याकांड में नया खुलासा हुआ है. सूत्रों कि माने तो फिरौती की रकम में बंटवारे को लेकर हुई अनबन की वजह से बबलू दुबे हत्या कांड को अंजाम दिया गया है.

बेतिया कोर्ट परिसर में बबलू दुबे हत्याकांड मामले में यह बात सामने आ रही है कि कुणाल सिंह और राहुल सिंह से बबलू दुबे की अनबन चल रही थी. दरअसल सूत्रों कि माने तो सुरेश केडिया अपहरण कांड के बाद तीनों में फिरौती की रकम को लेकर मनमुटाव चल रहा था.

वहीं बेतिया कोर्ट परिसर में बबलू दुबे की हत्या के बाद कोर्ट परिसर की सुरक्षा पर सवाल उठने लगे हैं. पश्चिमी चंपारण जिला जज अभिमन्यू लाल श्रीवास्तव ने कोर्ट परिसर में बबलू दुबे की हत्या को लेकर न्यायिक जांच के आदेश दिये हैं.

इस मामले में पेशी के लिए आए कैदियों की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कई गंभीर सवाल भी उठ रहे हैं.

आंकड़ो के मुतबिक पिछले 5 साल में कोर्ट परिसर में यह दूसरी हत्या है. जून 2012 में कुख्यात बबन राम की भी हत्या कोर्ट परिसर में ही कर दी गई. बबन राम को कोर्ट में उस वक्त पेशी के लिए लाया गया था. लेकिन अपराधी याशीन खान ने बबन राम की सबके मौजूदगी में ही गोली मार कर हत्या कर दी थी.

बबलू दुबे हत्या कांड को भी अपराधियों ने कुछ ऐसे ही अंदाज में अंजाम दिया है. कोर्ट परिसर में बबलू दुबे की हत्या के बाद तिरहुत रेंज के डीआईजी सुनील कुमार ने इस मामले को गंभीरता से लिया है. डीआईजी ने कहा है कि सुरक्षा में चूक के लिए स्कॉर्ट टीम के सदस्यों को निलंबित करने का आदेश दिया गया है.

साथ ही उन्होंने कहा कि किसी भी हाल में अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा साथ ही पेशी के दौरान कैदियों की सुरक्षा को और चाक-चौबंद किया जाएगा.वहीं जिले के एसपी विनय कुमार ने यह दावा किया है कि बबलु दुबे हत्याकांड में शामिल गिरोह की शिनाख्त कर ली गई है और पुलिस जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लेगी.

यह भी पढ़ें- बबलू दुबे हत्याकांड में शामिल गिरोह की शिनाख्त, एस्कॉर्ट टीम भी निलंबित
                    कोर्ट कैंपस में मर्डरः सुरेश केडिया अपहरण का मास्टमाइंड था बबलू दुबे