तो क्या पुलिस ने कराई बबलू दुबे की हत्या ?

बेतिया : बबलू दुबे की दिनदहाड़े हत्या के बाद चर्चा और अफवाहों का बाजार गर्म है. लोग आपस में यह चर्चा कर रहे हैं कि आखिर किसने बबलू दुबे की हत्या की होगी. इन्हीं चर्चाओं के बीच किसी प्रेस वाले के मोबाइल पर एक अनजान नंबर से फोन आता है.
उधर से आवाज आती है कि मैंने ही बबलू दूबे को मारा है. पूछने पर उधर से बताया जाता है कि वे राहुल और कुणाल हैं. हत्या का कारण बताते हैं कि बबलू दूबे ने नेपाल के प्रसिद्ध व्यवसाई सुरेश केडिया के अपहरण से मिली फिरौती की रकम में घालमेल कर दिया था, जिसको लेकर उसकी हत्या की गई.
इस एक फोन के बाद से लोग विस्मित होते हैं.पुलिस तक इसकी सूचना पहुंचाई जाती है,लेकिन पुलिस  इस फोन को महज अपने आप को प्रसिद्ध करने का एक स्टंट मानती है हालांकि बेतिया एसपी विनय कुमार ने कहा है कि इस पाहलू की और भी जांच की जाएगी, लेकिन  साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस इतनी सक्षम है कि अपने बलबूते पर अपराधियों को पकड़ लेगी.
अगर कोई सोचता है कि घटना का इल्जाम अपने सर लेकर पुलिस की जांच को गलत दिशा में मोड़ देगा तो यह उसकी गलतफहमी है .पुलिस जल्द से जल्द अपराधियों को पकड़ लेगी. हालांकि यह बात अलग है कि घटना के लगभग 24 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं. इधर बबलू दूबे के परिजनों का आरोप है कि यह हत्या किसी और ने नहीं बल्कि पुलिस ने ही अपराधियों से मिलकर कराई है.
दरअसल इस घटना से बबलू के परिवार वाले सन्न रह गए और घटना की सूचना मिलते ही बबलू के एक और भाई अमितेश दुबे बेतिया के लिए रवाना हो गए. उधर बबलू के चाचा ललन दुबे ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके भतीजे की हत्या पुलिस ने अपराधियों से मिलकर करा दी.साथ ही उन्होंने इस हत्या के उच्च स्तरीय जांच की मांग भी की.
बबलू दूबे के इस हत्या से न केवल उनके परिवार मे बल्कि गांव में भी चर्चाओं का बाजार गर्म रहा.पूर्वी चंपारण के सिसवा खरार पंचायत के मननपुर गांव के मिथिलेश दुबे उर्फ बबलू दुबे की हत्या के बारे में सुनकर ग्रामीणों का यह कहना था कि प्रशासन व सुरक्षा के बावजूद भी बबलू दुबे की हत्या कोर्ट में पेशी के दौरान कैसे कर दी गई और अगर कोर्ट में किसी की हत्या हो जाती है तो अब कौन सा स्थान लोगों के लिए सुरक्षित है.
BETTIAH
कुल मिलाकर बबलू दूबे की हत्या किसने की यह भी यक्षप्रश्न है,लेकिन फिर भी परिजनों का आरोप कि पुलिस ने ही बबलू दुबे की हत्या कराई ,यह काफी गंभीर है. लेकिन इस आरोप की सत्यता की जांच भी होगी.असली कातिल भी पकड़ा जाएगा ,लेकिन यह वक्त के गर्भ में है.
फिलहाल बेतिया में चर्चाओं का बाजार गर्म है लोग अपने अपने हिसाब से अंदाजा लगा रहे हैं कि आखिर किसने इसकी हत्या की होगी और इधर पुलिस अंधेरे में तीर चला रही है, और हत्यारे के पास पहुंचने का हरसंभव प्रयास कर रही है.
यहां बड़ा सवाल यह भी उठता है कि आखिर यह दो लोग राहुल और कुणाल कौन है जो फोन करके इस घटना का इल्जाम अपने सर ले रहे हैं. क्या यह कोई पब्लिक स्टंट है या फिर हकीकत में उन्होंने ही बबलू दूबे को मारा है.यही सवाल लोगों के मन में उठ रहा है.इसलिए जब तक पुलिस अपराधियों को पकड़ नहीं लेती तब तक कुछ भी कहना मुश्किल है.
यह भी पढ़ें- कोर्ट कैंपस में मर्डरः सुरेश केडिया अपहरण का मास्टमाइंड था बबलू दुबे