बबलू दुबे हत्याकांड में शामिल गिरोह की शिनाख्त, एस्कॉर्ट टीम भी निलंबित

पटना/बेतिया(प्रशांत कुमार झा) : कुख्यात अपराधी बबलू दुबे के हत्या के बाद भले ही अपराध और आतंक के एक साम्राज्य का अंत हो गया हो,लेकिन हत्या जिस तरीके से हुई उसे कतई सही नहीं ठहराया जा सकता. इतना ही नहीं दिनदहाड़े कोर्ट परिसर में हुई इस हत्या ने सुरक्षा व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है.



बबलू दुबे को मिली विशेष सुरक्षा टीम भी उनकी जान बचाने में खोखली साबित हुई और शायद यही कारण है कि मुजफ्फरपुर डीआईजी साथ ही चंपारण प्रक्षेत्र के प्रभारी डीआईजी अनिल कुमार सिंह को इस मामले को अपने हाथ में लेना पड़ा है.

बता दें कि डीआईजी द्वारा पिछले 24 घंटे से की जा रही समीक्षा एवं जांच ने कई बातों को उजागर कर दिया है .डीआईजी सिंह ने स्वयं भी इस बात को स्वीकार किया है कि इस मामले में सुरक्षा व्यवस्था में भारी चूक हुई है. बकौल डीआईजी इस मामले की जांच में काफी अहम सुराग मिले हैं और इन सवालों से काफी चौंकाने वाले तथ्य भी सामने आ रहे हैं .

जिनपर त्वरित जांच हो रही है.इस जांच के बाद कई बड़े मामलों के भी खुलासा होने की संभावना बन रही है. इसके लिए एक टीम का भी गठन किया गया है जो अलग-अलग नजरिए से इस मामले को छानबीन कर रही है. उन्होंने यह भी बताया कि न्यायालय की सुरक्षा व्यवस्था काफी महत्वपूर्ण है. इसलिए न्यायालय में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है.

डीआईजी ने बबलू दूबे की एस्कॉर्ट पार्टी में शामिल लोगों पर कार्रवाई करते हुए एसपी को उन्हें निलंबित करने का आदेश भी दे दिया है. डीआईजी अनिल कुमार सिंह ने बताया कि इस हत्याकांड में शामिल गिरोह की पहचान भी कर ली गई है और शीघ्र ही इस मामले में गिरफ्तारी शुरू हो जाएगी.

हालांकि अनुसंधान चल रहे होने के कारण अभी कुछ खुलासा नहीं किया जा सकता है,.लेकिन उन्होंने बताया कि बहुत जल्दी इस हत्याकांड का पर्दाफाश हो जाएगा और अपराधी सलाखों के पीछे होंगे.

यह भी पढ़ें- तो क्या पुलिस ने कराई बबलू दुबे की हत्या ?
 कोर्ट कैंपस में मर्डरः सुरेश केडिया अपहरण का मास्टमाइंड था बबलू दुबे