बेऊर के थानेदार 1.25 लाख रुपये घूस लेते गिरफ्तार

पटना : निगरानी अन्वेषण ब्यूरो ने आज गुरुवार को पटना में बहुत बड़ी कार्रवाई की है. निगरानी की टीम ने पटना के बेऊर थानाध्यक्ष राकेश यादव को 1.25 लाख रुपये रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया है. बहुत ही गोपनीय तरीके से हुई इस कार्रवाई के बाद पटना पुलिस में हड़कंप मच गया है.

बताते चलें कि निगरानी अन्वेषण ब्यूरो को बेऊर के थानाध्यक्ष राकेश यादव की शिकयत दो दिन पहले ही मिल गयी थी. फरियादी ने बताया था कि मारपीट के एक मामले में निबटारे को थानेदार बड़ी रकम मांग रहे हैं. कछ भी सुनने को तैयार नहीं हैं. इसके बाद निगरानी टीम के पदाधिकारियों ने कार्रवाई की रणनीति तैयार की. रणनीति के तहत आज जैसे ही शिकायती रकम को लेकर थानेदार के पास वह पहुंचा. जाल बिछायी निगरानी टीम ने धावा बोल दिया. पलक झपकते ही थानेदार राकेश यादव गिरफ्तार कर लिये गये. निगरानी टीम का नेतृत्व डीएसपी स्तर के एक अधिकारी कर रहे थे.

ध्यान रखें कि पिछले दिनों ही संपूर्ण बेऊर थाना को बदल दिया गया था. तब मामला शराब के धंधेबाजों के साथ मिली भगत का था. इस मामले में बेउर थाने में तैनात दो पुलिस वाले सेवा से बर्खास्त भी कर दिये गये थे. अब थानेदार राकेश यादव की गिरफ्तारी से स्पष्ट हो गया है कि बेऊर थाना के हाव भाव में बड़ी कार्रवाई के बाद भी कोई असर नहीं पड़ा.

निगरानी के सूत्रों ने बताया कि उन्हें थानेदार के खिलाफ शिकायत कच्ची दरगाह के रहनेवाले अमरेंद्र कुमार ने की थी. बेऊर में उनकी जमीन है. इस जमीन को लेकर दूसरे पक्ष से उनका विवाद चल रहा है. इस विवाद क सिलसिले में हुए बेऊर थाना में एफआइआर दर्ज कराना चाहते थे, लेकिन थानेदार एफआइआर दर्ज करने को तैयार नहीं था. तब परेशान होकर अमरेंद्र कुमार निगरानी के पास पहुंचे थे. ब्यूरो के महानिदेशक रवींद्र कुमार को पूरे मामले की जानकारी देकर कार्रवाई को अंजाम दिया गया है.

यह भी पढ़ें-
पटना में पहली बार 1.5 व 2.5 BHK का फ्लैट, निर्माण तेजी में, कीमत 9 लाख से स्‍टार्ट