पटना के एग्जिक्यूटिव इंजीनियर से 10 लाख की ठगी, PHED का सचिव बन कर लगाया चूना

लाइव सिटीज डेस्क : सूबे में अपराध की तरह ठगी के मामले भी लगातार आ रहे हैं. ऐसा ही एक और मामला सामने आया है. इसमें पटना में रहनेवाले एग्जिक्यूटिव इंजीनियर को ठगों ने चूना लगाया है. इंजीनियर से शिवहर जिले में मोटी रकम की ठगी हुई है. ठगों ने 10 लाख रुपये झटक लिये हैं. इंजीनियर पीएचइडी में तैनात हैं.

बताया जाता है कि पटना के मीठापुर निवासी एग्जिक्यूटिव इंजीनियर मनीष कुमार से उसी विभाग का सचिव बनकर ठगों ने 10 लाख रुपये का चूना लगा दिया. इस बाबत मदनलाल रजक के पुत्र इंजीनियर मनीष कुमार ने शिवहर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी है.

पुलिस सूत्रों के अनुसार इसी साल 26 सितंबर को ड्यूटी आवर में इंजीनियर मनीष कुमार के सरकारी मोबाइल पर एक कॉल आया. कॉल करने वाले ने खुद को पीएचइडी का सचिव विनय कुमार बताया. फोन करनेवाले ने यह भी कहा कि ‘मैं अस्पताल से बोल रहा हूं तथा मुझे तुरंत 10 लाख रुपये भेजो. मैं इमरजेंसी में हूं. शाम तक रुपये वापस कर दूंगा.

मनीष कुमार ने कहा कि मैं 10 लाख रुपये देने में असमर्थ हूं तो फोन करने वाले ने कहा कि किसी ठेकेदार से व्यवस्था कराओ, काफी इमरजेंसी है. तब कार्यपालक अभियंता ने उनके झांसे में आकर विभाग के ठेकेदार मनोज कुमार सिंह कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड शिवहर से 10 लाख रुपये का चेक लेकर फोन करने वाले फर्जी सचिव के नाम भेज दिया.

सूत्रों के अनुसार पैसा भेजने के समय स्टेट बैंक शिवहर के शाखा प्रबंधक से मोबाइल धारक को बात भी कराया गया तथा मनोज कुमार सिंह कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड ने भी मोबाइल धारक से बात कर चेक देने की हामी भरी. आरटीजीएस के माध्यम से मोबाइल धारक ने खाते में पैसा भेजा गया.

इधर कार्यालय पहुंचकर कार्यपालक अभियंता मनीष कुमार ने अपना मेल खोला तो स्तब्ध रह गया. मेल पर एक विभागीय पत्र निर्गत किया गया था जिसमें पटना के सचिव द्वारा कहा गया था कि ‘मेरे नाम से फर्जी तरीके से रुपये की वसूली एवं धोखाधड़ी की जा रही है. इस तरह का घटना होने पर प्राथमिकी दर्ज कराएं. मेल देखकर कार्यपालक अभियंता हक्का बक्का रह गया.

आनन-फानन में वे तुरंत स्टेट बैंक पहुंचकर मैनेजर को जानकारी दी. फोन करनेवाले के दिये गये खाता नंबर के आधार पर केनरा बैंक, पारियो थाना बिहटा पटना के मैनेजर से बात संपर्क किया गया. भुगतान रुकवाने का काफी प्रयास किया गया, लेकिन केनरा बैंक ने उसी दिन 10 लाख रुपये की निकासी कर दी थी.

खास बात कि केनरा बैंक में दो लाख रुपये से अधिक कैश ट्रांजेक्शन का प्रावधान नहीं रहने के बाद भी तुरंत उसी दिन 10 लाख रुपये की निकासी करा देना बैंक को कठघरे में खड़ा करता है. वहीं पुलिस को छानबीन में पता चला है कि ठगी करने वाला बिहटा स्थित लखन टोला निवासी परमात्मा सिंह का बेटा राजीव रंजन है. पुलिस मामले की छानबीन में लगी हुई है और केनरा बैंक की भूमिका को लेकर भी जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़ें :

इस यूनिवर्सिटी से बीएड कर रहे हैं तो ध्यान दें, नहीं चलेगा कोई जुगाड़
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)