आरा के रहनेवाले सीआरपीएफ जवान ने राजनाथ सिंह पर लगाया आरोप, लाया तीसरा वीडियो…

crpf

आरा (पुष्कर पांडेय) : शाहपुर के नरगदा गांव के रहनेवाले सीआरपीएफ के 231 बटालियन दुर्गापुर में पोस्टेड जवान पंकज मिश्रा ने फिर से तीसरी बार विवादास्पद बयान सोशल मीडिया पर देकर हलचल मचा दिया है. पंकज मिश्रा ने यहां तक कह दिया कि मुझे पहली बार वीडियो वायरल करने की सजा दी गई और हमारे सीनियर भटनागर सहित कुछ अधिकारियों ने पिटाई भी कर दी.

सीआरपीएफ जवान पंकज मिश्रा ने तीसरी बार वीडियो फेसबुक पर वायरल करते हुए कहा कि आखिर कौन सी गलती मैंने की. मेरे 25 साथी छत्तीसगढ़ के सुकमा में मारे गए. मेरी गलती सिर्फ यही है कि मैंने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से हाथ पर हाथ धर कर बैठने के लिए नहीं कहा.

पंकज मिश्रा ने कहा कि जैसे ही अपना तीसरा वीडियो वायरल किया. मेरे सीनियर भटनागर इन डिसिप्लिन एक्ट के तहत कार्रवाई की और मेरा मोबाइल लेकर कुछ अधिकारियों ने मुझे ऐसी जगह पर मारा, ताकि कोई दाग न हो और मेरे चेहरे पर कोई निशान न रहे. उसने यह भी बताया है कि मैं किसी तरह चकमा देकर भाग निकला. उसने कहा कि मैंने क्या गलती की थी, हमारे 25 जवान मारे गए. राजनाथ सिंह की मैंने निंदा की और हमने उनके कार्यों की निंदा की.

crpf

 

पंकज ने पूर्व जनरल बीके सिंह का भी मामला वीडियो में उठाया है. उसने कहा कि बीके सिंह ने अपने कार्यकाल के समय तात्कालिक प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की कड़ी आलोचना की थी. इतना ही नहीं बीके सिंह ने उस समय सेना की गोपनीयता को भी भंग किया था और कहा था कि हमारे पास गोला बारुद की कमी है और इस समय हम नहीं लड़ सकते हैं. तब उन पर कार्रवाई क्यों नहीं की गयी.

गौरतलब है कि भोजपुर जिले के शाहपुर थाना क्षेत्र के एक छोटे से गांव नरगदा का रहनेवाला पंकज मिश्र सीआरपीएफ के 221 बटालियन पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में पोस्टेड है. सुकमा में अपने साथियों के शहीद होने की खबर के बाद से ही वह विचलित है. इसका सोशल मीडिया पर वीडियो जारी करते हुए पंकज ने कहा था कि सुकमा हमले से उसकी भावनाओं को ठेस पहुंची.

वीडियो में पंकज ने सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए अपनी बटालियन को भी काफी भला बुरा कहा था.

उसके भीतर के दर्द का यह वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. वीडियो के सामने आने पर पंकज की व्यथा को लेकर उसके पिता से लेकर भाई, मां व दादा तक भावुक हो गए.