नहीं रहे मशहूर लोकगायक अजीत अकेला, मुख्यमंत्री ने किया शोक व्यक्त

पटना: भोजपुरी के प्रसिद्ध लोकगायक अजीत कुमार ‘अकेला’ का पटना में निधन हो गया. परिवार के मुताबिक, अजीत कुछ दिन से बीमार रह रहे थे. उनका इलाज चल रहा था. सोमवार की सुबह ब्रेन हेमरेज के चलते उनका निधन हो गया.

बहुत ही मिलनसार स्वभाव और भोजपुरी लोक-संगीत के चर्चित नाम में से एक अजीत कुमार अकेला ने अनुराधा पौडवाल और रविंद्र जैन के साथ मिलकर पांच हजार से ज्यादा गाना गाया है. लंबा संघर्ष और अपनी मेहनत से भोजपुरी के पारंपरिक गायकी को नई ऊंचाई तक ले जाने वाले अजीत कुमार अकेला अपनी गायकी से सुनने वाले लाखों-करोड़ों लोग के दिल पर राज करते रहे हैं.

उनका गाया हुआ पूर्वी, झूमर, चईता और निर्गुण लोगों को भाव-विभोर कर देता रहा है. पटना के गर्दनीबाग हाईस्कूल में संगीत शिक्षक के रूप में लोक संगीत के प्रसार में जुटे अजीत कुमार अकेला के ‘झामलाल बुढ़वा पीटे कपार…’ को लोग काफी चाव से आज भी सुनते हैं.


अजीत अपने सुर के रस से सैकड़ों एलबम में पांच हजार से अधिक गीत गाए हैं. इन पांच हज़ार गीतों में भोजपुरी, मगही और मैथिली भाषा में गाए हुए गीत शामिल हैं. जानकारी के मुताबिक अजीत एक जुलाई को बिहार सरकार की ओर से मॉरीशस में होने वाले लोकगीत कार्यक्रम में भाग लेने जाने की तैयारी कर रहे थे. उनके निधन पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी शोक जताया.


कला जगत में शोक की लहर
भोजपुरी के प्रसिद्ध लोकगायक अजीत अकेला के निधन पर बिहार कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग के मंत्री श्री शिवचंद्र राम ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि अजीत अकेला के निधन से लोकगायकी की परंपरा में रिक्‍त स्‍थान बन गया है. बिहार की कला को अपूरणीय क्षति है. वहीं बिहार कला पुरस्कार से सम्मानित गायक के असमय चले जाने पर उनके साथ विभिन्न कार्यक्रमों में मंच को साझा को करने वाली दूरदर्शन में कार्यरत सोमा चक्रवर्ती, सुदीप बोस, पल्लवी विश्वास, भोजपुरी फिल्म एक्टर किशोर कुणाल समेत बिहार के अन्य रंगकर्मी व लोक गायकों, पत्रकार एवं साहित्यकारों ने शोक जताया है.

शिक्षा जगत भी अकेला के निधन से शोकाकुल

पटना कॉलेजिएट स्कूल के वरीय शिक्षक सह मशहूर लोक गायक व कलाकार अजीत कुमार अकेला के असामायिक निधन से राज्य का शिक्षा जगत भी शोकाकुल है. निधन की खबर मिलते ही बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष सह विधान पार्षद केदार नाथ पांडेय, पटना प्रमंडल माध्यमिक शिक्षक संघ के सचिव चंद्रकिशोर कुमार, पटना जिला माध्यमिक शिक्षक संघ के सचिव सुधीर कुमार एवं प्राच्य प्रभा मासिक पत्रिका के प्रधान संपादक विजय कुमार सिंह सहित अनेक शिक्षकों ने उनके आवास पर जाकर उनके परिवार को सांत्वना दी और उनके पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित किया. बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के महासचिव सह पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि  बिहार की शिक्षा और संस्कृति में उनके योगदान को हमेशा याद रखा जायेगा.