यहां तो पहरेदार ही बन गये हैं ‘लुटेरे’, कभी भी हो सकता है खूनी टकराव

सासाराम (राजेश कुमार) : जब पहरेदार ही करने लगे जब्त पत्थर जिंस की तिजारत तो क्यों न माना जाये कि व्यवस्था को ही घून लग गया है. प्रशासन को क्या पता उसका तंत्र ही आस्तीन का सांप बना बैठा है. बता दें कि शासन-प्रशासन में शामिल दागदार चेहरों के संरक्षण में पिछले सात साल तक बड़े पैमाने पर रोहतास जिले में चल रहे पत्थर के अवैध कारोबार को हालिया महीनों में काफी मशक्कत के बाद अंकुश लग पाया है. लेकिन यहां तो इसे लेकर खूनी टकराहट की आशंका बन गयी है. इसमें कहीं न कहीं प्रशासनिक तंत्र का शह मिल रहा है.

मामला सासाराम मुफसिल थाना क्षेत्र के कंचनपुर पत्थर मंडी में प्रशासनिक पहल पर जब्त कर रखे गए गिट्टी-पत्थर के भंडार से जुड़ा हुआ है. उक्त भंडार की रखवाली के लिए स्थायी तौर पर पुलिस भी तैनात है. पर उसी के सामने दिनदहाड़े ट्रेक्टरों से गिट्टी ले जाया जा रहा है. गुरुवार को इस धंधे में शामिल प्रतिस्पर्धी गुटों के बीच खूनी टकराव होते होते बचा.

मिली जानकारी के अनुसार हाल के महीने में उपरी दबाव से हरकत में आये जिला प्रशासन ने करोड़ों के खर्च पर पहाड़ से जुड़ने वाले तमाम रास्तों की कटाई की. अवैध क्रशर मशीनों को नेस्तनाबूद किया. वहां भंडारित पत्थर जिंसों को जब्त किया. अवैध रूप में चल रहे कई पत्थर मंडियों में जब्त गिट्टी पर पुलिस के पहरे बैठाए गए. उन्हें नीलाम करने की प्रक्रिया चल रही है. पर कंचनपुर मंडी की जब्त गिट्टी की अब तक मापी नहीं कराई जा सकी. जबकि, वहां पर पुलिस की तैनाती है. स्वाभाविक है, पहरे में लगे पुलिस वाले उस भंडार को अपने स्वार्थ पूर्ति का साधन बना लिये है.

कल पुलिस की देखरेख में पास के फाजिलपुर गांव के पत्थर माफिया ने ट्रेक्टरों से गिट्टी ले जाना शुरू किया. यह बात कंचनपुर गांव वालों को नागवार गुजरी. मामला गोली बंदूक तक पहुंच आया. फेरे में पड़े पुलिस वालों ने किसी तरह स्थिति को शांत कराया. बताते हैं कि मौके पर तैनात पुलिस वाले छुपे तौर पर यह धंधा कई दिनों से चला रहे थे.

इधर पूरे प्रशासन के दशहरा और मुहर्रम में व्यवस्त होने का नाजायज फायदा उठाने के लिए अपने धंधे को बड़े पैमाने पर शुरू कर दिया. इस सम्बन्ध में सम्बंधित थाने के अध्यक्ष ने पूछने पर कहा कि ऐसी जानकारी नहीं है. इसे गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें :

मीडिया के सामने आए यशवंत सिन्हा, बोले नोटबंदी के बाद सदमे जैसा था GST का फैसला
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा
(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)