हाईकोर्ट का फरमान : शराब मामले में पकड़ाये तो नहीं मिलेगी अग्रिम जमानत…

high-court-sharb

लाइव सिटीज डेस्क/पटना (एहतेशाम) : बिहार में शराबबंदी पर हाईकोर्ट के दो महत्वपूर्ण निर्णय आये हैं. शराबबंदी अभियान के तहत पकड़े जा रहे अभियुक्तों के लिए ये अच्छी और बुरी दोनों तरह की खबरें हैं. पटना हाईकोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए स्पष्ट कर दिया है कि इस मामले में अभियुक्त बनाये गये लोगों को अग्रिम जमानत नहीं मिलेगी. वहीं दूसरी ओर मामले में गिरफ्तार या आत्मसमर्पण करनेवाले अभियुक्तों को निचली अदालत जमानत पर छोड़ सकती है.

उक्त आदेश पटना उच्च न्यायालय के न्यायाधीश अश्विनी कुमार सिंह की एकलपीठ ने दिया है. अदालत ने नयी शराब नीति कानून की धारा 76(2) को स्पष्ट करते हुए कहा कि इसके तहत किसी भी अभियुक्त को शराब के मामले में अग्रिम जमानत नहीं दी जा सकती है, जब तक कि न्यायालय द्वारा उक्त धारा को गैर संवैधानिक नहीं घोषित कर दिया जाता है.

high-court-sharb

साथ ही साथ अदालत ने यह भी स्पष्ट किया कि यदि निचली अदालत शराब मामले में पकड़ाये या आत्मसमर्पण किये अभियुक्तों की जमानत नामंजूर करती है, तो उसे अपने आदेश में इस बात का स्पष्ट उल्लेख करना होगा कि किन कारणों से उसने जमानत नामंजूर की है.

अदालत ने इस संबंध में हाईकोर्ट के आदेश की प्रति सभी जिला एवं सत्र न्यायाधीशों को भेजने का आदेश हाईकोर्ट प्रशासन को दिया है. अदालत ने इसकी एक प्रति हाईकोर्ट के निबंधक को भी देने का आदेश दिया है, ताकि ऐसे मामलों के अभियुक्त अग्रिम जमानत याचिका दायर न कर सके.

इसे भी पढ़ें : रामविलास के बयान से CM नीतीश पर प्रेशर बढ़ा, कहा- तेजस्वी पर जल्द फैसला करें 
फिर बिगड़ा जायका : लालू की दो टूक – तेजस्वी नहीं देंगे इस्तीफा