जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त, रात 12 बजे से लौटेंगे काम पर

pmch
फाइल फोटो

पटना: बिहार की राजधानी पटना में स्थित सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल गुरुवार की देर शाम समाप्त हो गई. साथी डॉक्टरों को जमानत मिलने के बाद डॉक्टरों ने हड़ताल वापस ले लिया. बताया जाता है कि स्वास्थ्य विभाग ​के प्रधान सचिव आरके महाजन की पहल पर गिरफ्तार पीजी छात्रों को जमानत पर रिहा किया गया. हड़ताल पर गए डॉक्टर आज रात 12 बजे से अपनी सेवा देंगे.

17 मरीजों की हो गई मौत
जूनियर डॉक्टरों के हड़ताल की वजह से अब तक इलाज के अभाव में 30 घंटे के अंदर 17 मरीजों की मौत हो गयी है. बताया जा रहा है कि कई मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है. बुधवार को 12 मरीजों की मौत हो गयी थी. वहीं, गुरुवार को पांच और मरीजों के मौत की खबर मिली. इमरजेंसी वार्ड में एक भी ऑपरेशन नहीं हो सका था है और ओपीडी से करीब 500 मरीजों को बिना इलाज लौट जाना पड़ा.

इधर, पटना के जूनियर डॉक्टरों के समर्थन में नालंदा मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल, पटना और दरभंगा मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर भी हड़ताल पर चले गये थे. जानकारी के मुताबिक मरीजों में त्राहिमाम की स्थिति बनी रही.निजी क्लिनिकों के दलाल चांदी काटते रहे.

ज्ञात हो कि मेडिकल छात्रों पर पीजी मैट की काउंसेलिंग के दौरान हुए लाठीचार्ज के विरोध में बुधवार से पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गये थे.