मुंबई में मिला कमिश्नर का अपहृत भतीजा, होटल में कर रहा था मजदूरी

फुलवारीशरीफ/पटना (अजीत) : फुलवारीशरीफ से कमिश्नर का लापता भतीजा हर्षवर्धन एक वर्ष बाद मुंबई के एक होटल में काम करते मिला है. इसकी जानकारी मिलते ही उसके परिजन हर्षवर्धन को लाने मुंबई रवाना हो गये. वहीं माता-पिता पहले ही वहां पहुंच गये हैं. बेटे की जुदाई में पागल जैसे हो गये माता-पिता अपने लाल को देखते ही गले लग कर जी भर रोये.

फुलवारीशरीफ के मौर्य विहार कॉलोनी में हर्षवर्धन के घर के आसपास के लोग भी अब उसका बेसब्री से आने का इंतजार कर रहे हैं. इस मामले में फुलवारीशरीफ थाने में पहले गुमशुदगी, फिर अपहरण का मामला दर्ज कराया गया था. अब हर्षवर्धन के मिलने से पुलिस ने भी राहत की सांस ली है.

दरअसल मौर्य विहार निवासी यशवीर नंदन का बेटा हर्षवर्धन पिछले वर्ष 21 मई 2016 को अपने घर से अचानक ही लापता हो गया था. बताया जाता है कि हर्षवर्धन के चाचा यूपी में कहीं कमिश्नर हैं, इसलिए पुलिस पर लड़के को ढूंढ़ने का काफी दबाव बना हुआ था. वहीं एक चाचा मथुरा में रहते हैं. पुलिस का अनुसंधान एक वर्ष से जारी था. अब जाकर परिजनों को सूचना मिली कि लापता हर्षवर्धन मुंबई के एक होटल में काम करते देखा गया है. खबर पाकर परिजन उसे लाने मुंबई रवाना हो गये.

इधर जब पत्रकारों की टीम मौर्य विहार स्थित हर्षवर्धन के घर पहुंची, तो वहां एक बूढ़ी महिला ही मौजूद थी. बाकी लोग मुंबई पहुंच चुके थे. पड़ोसी महिला ने बताया कि हर्षवर्धन से उसके माता-पिता की मुंबई में मुलाकात हो गयी है. वे लोग वापसी में मथुरा में हर्षवर्धन के चाचा के घर होते हुए वापस तीन-चार दिनों में पटना लौटेंगे. हालांकि बूढ़ी महिला चाचा के बारे में बताने में असमर्थ कि वे अभी कहां पोस्टेड हैं. बहरहाल हर्षवर्धन के मिलने से पुलिस ने भी राहत की सांस ली है.

इसे भी पढ़ें : तीखी मिर्ची ने घोल दी है मोतिहारी के किसानों की जिंदगी में मिठास 
पटना AIIMS का मरीजों को तोहफा, अब मिलेंगी 90 परसेंट तक सस्ती दवाएं