बड़ा खुलासाः तीन करोड़ में तय हुई थी NEET पेपर की डील

लाइव सिटीज डेस्क/पटनाः NEET पेपर लीक कांड मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. सेटिंग के खेल की डील तीन करोड़ रुपये में हुई थी. इस मामले में पटना पुलिस ने शेखपुरा जिले के एक कोचिंग संचालक ललित विजय को हिरासत में लिया है. ललित को उसके रिश्तेदार लल्लू और छात्र चंदन सर के नाम से बुलाते हैं. हालांकि एसएसपी मनु महाराज ने गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं की है.



शेखपुरा में ललित के पकड़े जाने के बाद चर्चा रही कि NEET पेपर की डील तीन करोड़ रुपये में हुई थी. उसमें से ललित को सवा करोड़ रुपये मिलने वाले थे. सूत्रों की मानें तो पेपर लीक होने के बाद जालसाज प्रश्नों के जवाब उसे वाट्सएप करते. इसके बाद वह अभ्यर्थियों को भेजता. पुलिस ने उसके पास से कोचिंग और अभ्यर्थियों से जुड़े कागजात, कंप्यूटर, हार्ड-डिस्क जब्त की है.

पुलिस ने ग्राहक बनकर ललित को दबोचा. इस सिलसिले में गिरफ्तार लॉ छात्र अविनाश रोशन के मोबाइल से पुलिस ने ललित का नंबर निकाला. इसके बाद एक पुलिसकर्मी ने उससे ग्राहक बनकर नीट का पेपर मांगा. सूत्रों की मानें तो ललित ने 10 लाख रुपये की मांग की थी. पुलिस ने मोबाइल के टावर लोकेशन के आधार पर उसका ठिकाना ढूंढा.

बताया जा रहा है कि पटना में साथियों की गिरफ्तारी के बाद ललित मंगलवार की रात शेखपुरा से भागने की फिराक में था. हालांकि, पुलिस ने उसे शेखपुरा कलेक्ट्रेट के सामने सतबिगही इलाके में पकड़ लिया. शेखपुरा में उसकी कत्यायनी इंस्टीच्यूट के नाम से कोचिंग है.

मूलरूप से पंडारक थानान्तर्गत पुनारख गांव का रहने वाला ललित पिछले तीन सालों से शेखपुरा में कोचिंग चला रहा है. वहां के कोशुंभा गांव में उसका ननिहाल है. सूत्र बताते हैं कि दो साल पहले एनआइओएस की परीक्षा में धांधली करने के आरोप में ललित का रिश्तेदार गिरफ्तार होकर जेल गया था.

यह भी पढ़ें-
NEET परीक्षा में लड़कियों की ब्रा तक उतरवाई थी टीचर ने, CBSE ने कर दी कार्रवाई
NEET सेटिंग मामलाः अब एसएसपी मनु महाराज की SIT टीम करेगी जांच