अब इन्हें कौन समझावे, इन्होंने सीतामढ़ी को ‘बदनाम’ कर दिया

लाइव सिटीज डेस्क : अब इन्हें कौन समझावे. ये सभी बच्चे नहीं हैं. लेकिन काम बच्चा से भी बदतर. इन्हें केंद्र और बिहार सरकार की चेतावनी से भी मतलब नहीं. तभी तो ये सभी जनाब खुले में शौच करते पकड़े गये. जो सुन रहा है वही इन्हें दोषी ठहरा रहा है. इन पर हंस रहा है.

बता दें कि केंद्र से लेकर बिहार सरकार तक की अेार से खुले में शौच से मुक्त करने के लिए पंचायत स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है. समय-समय पर अधिकारी बैठक कर रहे हैं. इसके लिए पंचायतों की कमान मुखिया जी संभाले हुए हैं. इतना ही नहीं, जिलों में खुले में शौच से मुक्त कराने के इस अभियान की मॉनिटरिंग खुद डीएम संभाले हुए हैं. इसके बाद भी सीतामढ़ी को कुछ लोगों ने ‘बदनाम’ कर दिया.

जानकारी के अनुसार सीतामढ़ी में अधिकारियों को लगातार शिकायत मिल रही थी कि यहां लोग अभी भी खुले में शौच के लिए जाते हैं. इसे लेकर अफसरों की टीम कुछ दिनों से जिले के विभिन्न प्रखंडों में अभियान चलाया जा रहा था. बताया जाता है कि इस अभियान के तहत खुले में शौच करते लगभग 90 लोगों को पकड़ा गया. जानकारी के अनुसार पकड़े गये लोगों में पुपरी, सुरसंड, बोखड़ा, सोनबरसा, डुमरा, मेजरगंज, बेलसंड, सुप्पी के शामिल हैं. वहीं दो को अफसरों के साथ दुर्व्यवहार के आरोप में जेल भेज दिया गया, जबकि बाकी को बांड भरा कर छोड़ दिया गया. हालांकि यह मामला क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है.

इसे भी पढ़ें : नीतीश कैबिनेट में शामिल हो सकते हैं ये चेहरे, मंत्रिमंडल का गठन आज 5 बजे 
नीरज कुमार ने दी लालू को सलाह, केस-मुकदमा के बाद किया करें 2 घंटे आराम 
पनामा गेट घोटाला : नवाज़ शरीफ का इस्तीफा, अमिताभ बच्चन का क्या होगा