बहनोई ने ही करायी थी केशव झा की हत्या, कोसी में फेंक दिया शव, थानेदार सस्पेंड

सुपौल/पिपरा (प्रियरंजन) : केशव झा अपहरण मामले में आखिरकार सुपौल के पुलिस कप्तान डॉ कुमार एकले ने सबकुछ क्लियर कर दिया है. केशव की हत्या उसके बहनोई ने ही की थी और शव को कोसी में फेंक दिया था. हालांकि अभी भी शव बरामद नहीं किया जा सका है. वहीं इस मामले एसपी ने पिपरा के थानेदार शिव कुमार यादव को सस्पेंड कर दिया है.

संपत्ति के लालच में किस तरह रिश्ते तार-तार होते हैं, केशव झा के अपहरण से यह खुलासा हो गया. एसपी डॉ कुमार एकले के अनुसार केशव की हत्या रिश्ते में लगनेवाले उनके बहनोई ने ही अपने साथियों के साथ मिल कर करायी थी. 11 जून को केशव का अपहरण कर घटना को अंजाम दिया गया था.

एसपी के अनुसार शाहपुर पृथ्वीपट्टी निवासी फेकन मिश्र का पुत्र पवन मिश्रा ने केशव की हत्या करा कर शव को कोसी नदी में फेंकवा दिया था. केशव के मोबाइल नंबर का सीडीआर निकालने के बाद पता चला कि पिपरा थाना क्षेत्र के देवीपट्टी निवासी सिकेन यादव और नरेश यादव के साथ केशव की कई बार बात हुई थी. इसके बाद पुलिस ने तीनों को पकड़ा गया था.

एसपी ने बताया कि आरोपी रामकुमार कामत ने पूछताछ में केशव की हत्या कर दिये जाने की बात स्वीकार कर ली है. कामत ने पुलिस को बताया है कि 11 जून को पवन मिश्र ही केशव को लेकर घर से निकला था. पिपरा बाजार में लाल रंग की कार में पहले से ही बिरेन्द्र राय, रामकुमार कामत मौजूद थे. सभी कार से केशव को लेकर सुपौल व कोसी महासेतु पार करते हुए निर्मली थाना क्षेत्र में पहुंचे. वहां कोसी के पास पहले से ही गोपीशंकर और बीरेंद्र भाई फूल मौजूद था. केशव की हत्या गमछे से गला दबाकर की गयी. फिर दो बोरों में बालू भरकर केशव की लाश को कोसी में डूबो दिया गया. बता दें कि मुख्य अपराधी बीरेंद्र राय गिरफ्तारी के बाद हाजत से ही फरार हो गया है.

बहरहाल केशव की अब तक लाश नहीं मिली है. महाजाल लगा कर नदी में खोजबीन की जा रही है. वहीं केशव के माता-पिता मानने को तैयार नहीं है कि उनके पुत्र की हत्या हुई है. परिजनों का कहना है कि जब तक शव नहीं मिलता है, तब तक हमें एसपी की बात पर विश्वास नहीं है. मामले के पीछे बहुत बड़ी साजिश है.

गौरतलब है कि 11 जून को रात में उनके ही गांव कमलपुर से केशव के अपहरण किये जाने की बात सामने आयी थी. अपहृत केशव झा के पिता आशुतोष झा ने बताया था कि उनसे फिरौती में 50 लाख रुपये मांगे जा रहे हैं. घटना के विरोध में लोगों ने रोड जाम भी किया था.

इसे भी पढ़ें : जब गौरक्षा पर देश को चेता रहे थे PM, तभी झारखंड में बीच सड़क पर असगर को मार डाला