रोज जाम से हलकान है पटना, हाईकोर्ट भी है नाराज

पटनाः सच में, पटना के थानेदारों के दिन अभी बहुत खराब चल रहे हैं. पिछले कई दिनों से रोज कोई न कोई निपट ही जा रहा है. गुरुवार की रात पाटलिपुत्रा थाना के थानेदार संजीव शेखर झा पर गाज गिरी थी. आज शुक्रवार को पटना के गांधी मैदान स्थित यातायात थाना के इंस्पेक्टर शशि शेखर चौहान सस्पेंड कर दिए गए. निलंबन की यह कार्रवाई पटना सेंट्रल रेंज के डीआईजी राजेश कुमार ने की है.

यातायात थाना के इंस्पेक्टर शशि शेखर चौहान दिसंबर 2016 से वर्तमान पद पर पदस्थापित थे. पहले भी यातायात थाना में रह चुके हैं. राजधानी पटना जाम की समस्या से रोज हलकान होता है. पटना हाईकोर्ट ने इधर जाम को लेकर गंभीर रुख एख्तियार किया है. पुलिस अधिकारियों से जवाब तलब किया जा रहा है.

हाईकोर्ट के रुख को देख पटना में जाम से निपटने में पुलिस की भूमिका की समीक्षा की गई. यह पाया गया कि यातायात थाना कोई काम तो करता ही नहीं है. सिर्फ कहने को थाना बचा है. राजधानी पटना में यातायात को नियंत्रित करने में इनके अधिकारी कहीं भी सक्रिय नहीं दिखते हैं. जाम की बड़ी वजह अतिक्रमण व वाहन चालकों/सड़क पर धंधा करने वालों की मनमानी भी है. कई जगहों पर पुलिस की मिलीभगत की शिकायतें भी रही हैं.

अभी पटना पुलिस के अधिकारियों ने जब सख्त रुख एख्तियार किया था, तो बोरिंग कनाल रोड की पार्किंग को अवैध कब्जे से मुक्त कराया गया. इस ऑपरेशन में भी यह ज्ञात हुआ कि वहां अतिक्रमणकारियों से नियमित तौर पर उगाही की जाती थी. वैसे सच यह भी है कि ऑपरेशन समाप्त होते ही फिर से कब्जे की कोशिश शुरू हो चुकी है. मालूम हो कि पिछले दिनों जक्कनपुर, रूपसपुर, फतुहा व बेऊर के थानेदार भी सस्पेंड किए जा चुके हैं.

यह भी पढ़ें-
दिन बहुत खराब चल रहे पटना के थानेदारों के, लगातार गिर रही गाज
पप्पू यादव हत्याकांड : फतुहा के थानेदार लाइन हाजिर, मनु महाराज ने लिया एक्शन