पेट की आग से तंग आकर वो बेचने निकले कलेजे के टुकड़े…!

लाइव सिटीज डेस्क/भागलपुरः सड़क पर खड़े होकर वो अपने जुड़वां बच्चों की बोली लगा रहे थे. वहां से गुजरने वाले लोगों से कह रहे थे कि हमारे बच्चों को खरीद लो. दरअसल ये मां-बाप गरीबी की जंग हार चुके थे. तभी ये नौबत आन पड़ी कि अपने कलेजे के टुकड़ों को बेचने चल पड़े. दोनों भागलपुर से कटिहार अपने बच्चों को बेचने पहुंचे थे.

घर में खाने के लिए एक दाना नहीं था. गरीबी की मार ऐसी पड़ी कि अपने नवजात जुड़वां बच्चों को बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा. मां-बाप ने अपने बच्चों को गोद में उठाया और निकल पड़े उन्हे बेचने के लिए. वो सड़क किनारे खड़े होकर लोगों से गुहार लगाने लगे कि कोई इन बच्चों को खरीद लो, इनके बदले कुछ पैसे दे दो.

बच्चों को बेचने का मामला जब थाने पहुंचा तो पुलिस तुरत पहुंची और मां-बाप को हिरासत में लेकर पूछताछ की. पूछताछ में दोनों ने बताया कि घर में खाने के पैसे नहीं हैं. आर्थिक तंगी में पहले से ही दो बच्चे हैं, जो भूखे हैं और ये दो जुड़वां बच्चे जिनके लालन-पालन में हम सक्षम नहीं है, तो हमने सोचा कि दोनों को बेच देंगे तो शायद पहले वाले दो बच्चों का पेट भर जाएगा.

 

बच्चों को बेचने वाले मां-बाप को पुलिस पकड़कर थाने लाई और उनसे पूछताछ कर रही है. बच्चों को बेचने वाले मां-बाप भागलपुर के दंडखोरा थानाक्षेत्र के भट्ट टोला के रहने वाले हैं. महिला का नाम गुंजा देवी है और उसके पति का नाम सुरेश है.बच्चों के बेचने की बात सुनकर काफी लोग पुलिस थाने पहुंच गए. लोग बच्चों को खरीदने के इच्छुक भी दिखे. पुलिस इस मामले को सुलझाने की कोशिश कर रही है.

यह भी पढ़ें-
नकारात्मक राजनीति करनी है तो बिहार से बाहर जाएं सुमो
सुमो ने अब तेज व तेजस्वी को पेट्रोल पंप मामले में लपेटा