राह भटक गए और हो गई दुर्घटना, पत्नी हमेशा के लिए हो गई जुदा

खगड़िया (मनीष कुमार ) : वह मोटरसाइकिल से जा कहीं और रहा था, लेकिन शायद आशा की मौत की नियति ही थी, जो उसे मंजिल से जुदा कर कहीं और खींच लाई. यह हृदय विदारक घटना दरभंगा जिले के कुशेश्वर स्थान थाना क्षेत्र के अर्राही निवासी सुखचैन कुमार, उनकी पत्नी आशा देवी एवं एक बालक के साथ घटित हुआ.

बताय़ा जाता है कि तीनों एक मोटरसाइकिल पर सवार होकर अपने गांव से एक रिश्तेदार के शादी समारोह में शिरकत करने काशनगर थाना क्षेत्र के सिहकुड गांव के लिए निकले थे. ऐसे में उन्हें जिले के माली चौक से काशनगर की तरफ ही मुड़ना था. लेकिन वह रास्ता भटक गये और आगे कंजरी मोड़ की तरफ बढ़ते चले गये.

शायद होनी को कुछ और ही मंजूर था और जिले के बेलदौर थाना क्षेत्र के एनएच—107 के कंजरी मोड़ के समीप विपरीत दिशा से तेज गति से आ रहे बिहार राज्य खाद्य निगम के टाटा 407 मालवाहक वाहन ने उनकी मोटरसाइकिल को अपनी चपेट में ले लिया. इससे मोटरसाइकिल सवार महिला आशा देवी की मौत मौके पर ही हो गई, जबकि बाइक चालक सुखचैन कुमार गंभीर रूप से एवं उनका आठ वर्षीय साला आंशिक रूप से घायल हो गया. घटना के बाद स्थानीय लोगों ने घायलों को नजदीक के सोनवर्षा अस्पताल में भर्ती कराया.

मामले की जानकारी मिलते ही बेलदौर थाना के अवर निरीक्षक अजय कुमार एवं सहायक अवर निरीक्षक कमल कुमार सिंह घटना स्थल पर पहुंचे. घायल के पॉकेट में मिले आधार कार्ड व मोबाइल नंबर के आधार पर उनके परिजनों को हादसे की सूचना पुलिस द्वारा दी गई. वहीं मृतक के शव को पोस्ट मार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा गया. साथ ही बेलदौर पुलिस द्वारा दुर्घटनाग्रस्त बाइक एवं 407 वाहन को कब्जे में ले लिया गया है. मामले कि जानकारी मिलने के बाद हर के जुबान से एक ही शब्द सुनी जा रही है कि काश सुखचैन रास्ता ना भूला होता तो उसकी जीवनसंगिनी शायद आज उनके साथ होती.

इसे भी पढ़ें : जदयू का PM पर हमला : अपना चेहरा चमकाया, जनता का पैसा पानी में बहाया