पत्रकार हत्याकांडः CBI कोर्ट में हुई शहाबुद्दीन की पेशी, कहा- मुझे फंसाने की हो रही कोशिश

लाइव सिटीज डेस्कः पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में आरोपित पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए तिहाड़ जेल से मुजफ्फरपुर के स्पेशल CBI कोर्ट में पेशी हुई. उन्होंने कोर्ट को बताया कि नार्को, ब्रेन मैंपिंग व लाई डिटेक्टर टेस्ट कराने को लेकर CBI की अर्जी पर अपने अधिवक्ता से विचार विमर्श कर रहे हैं. शहाबुद्दीन ने कहा कि वकील से विचार- विमर्श के बाद ही वे अपने निर्णय से कोर्ट को अवगत कराएंगे कि इस टेस्ट को लेकर उनकी सहमति है या नहीं.

उन्होंने एक बार फिर CBI की अर्जी व टेस्ट कराए जाने की मंशा पर सवाल उठाते हुए विरोध किया. उन्होंने आरोप लगाया कि CBI उन्हें फंसाने के लिए इस टेस्ट को आधार बनाना चाह रही है. उधर इस मामले में न्यायिक हिरासत में जेल में बंद लड्डन मियां सहित छह आरोपितों की कोर्ट में पेशी हुई. उन्होंने कोर्ट से कुछ और समय देने की प्रार्थना की और कोर्ट ने इसे स्वीकार करते हुए अगली सुनवाई के लिए 19 जून की तारीख मुकर्रर की है.

इससे पहले मुजफ्फरपुर के विशेष CBI कोर्ट में तिहाड़ जेल से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये 9 जून को शाहबुद्दीन की पेशी हुई थी, जिसमें कोर्ट ने साइंटिफिक टेस्ट के लिए उनकी सहमति है या नहीं इस बारे में पूछा. शाहबुद्दीन ने एक सप्ताह में वकील के माध्यम से जबाब देने की बात कही थी.

CBI ने कोर्ट को बताया है कि शाहबुद्दीन जांच और पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे हैं. CBI को शाहबुद्दीन को आठ दिनों तक रिमांड पर लेकर 50 सवाल पूछा था. शाहबुद्दीन ने कोर्ट में दलील दिया था कि उन्होंने CBI के सभी सवालों को जबाब दिया है ऐसे में वैज्ञानिक तरीके से पूछताछ का औचित्य नहीं है.

गौरतलब है कि जब तक शाहबुद्दीन की सहमति इन टेस्ट के लिए नहीं होगी तब तक CBI जांच नहीं करा सकती है. माना जा रहा है कि राजदेव हत्याकांड में सीबीआई जेल से बेल पर रिहा हुए मो. जावेद और मो. कैफ को सरकारी गवाह बनाने की तैयारी में है.

यह भी पढ़ें-

शहाबुद्दीन की रिमांड बढ़ाने की तैयारी में CBI, स्पेशल कोर्ट में डाली है अर्जी
CBI की रिमांड पर शहाबुद्दीन, कहा- नहीं कराऊंगा लाई डिटेक्टर टेस्ट