सेट थी इंजीनियर के बेटे को किडनैप कर मारने की प्लानिंग, बीच में आ गई SSP की टीम

पटना (अमित जायसवाल) : राजधानी पटना में एक ऐसा गैंग एक्टिव था जिसने कई वारदातों को अंजाम देने की प्लानिंग कर रखी थी. इस गैंग ने सबसे पहले एक इंजीनियर के बेटे को किडनैप करने और पटना के एक रेस्टोरेंट मालिक को जान से मारने की साजिश रची थी. लेकिन पटना पुलिस के क्विक रिएक्शन की वजह से सभी अपराधियों को धर दबोचा गया. अपराधियों के पास से हथियारों का जखीरा बरामद किया गया है. अगर वक्त रहते पुलिस इन्हें गिरफ्तार नहीं करती तो ये गैंग कई बड़ी वारदातों की वजह बनने वाला था.

इन अपराधियों ने पहले पटना में पोस्टेड PWD के इंजीनियर विद्या सागर के बेटे आयुष कुमार को किडनैप करने की पूरी तैयारी की. अपराधी अपहरण के बाद 50 लाख की फिरौती मांगने वाले थे. पैसे नहीं मिले या फिर कोई गड़बड़ी होने पर आयुष को ठिकाने लगाने से भी नहीं चूकते. लेकिन इस बात की भनक पटना पुलिस को लग गई. अभी अपराधी कुछ आगे की प्लानिंग करते तभी पुलिस को इनके एक जगह जुटे होने की खबर मिली. एसएसपी मनु महाराज की टीम ने रेड किया और दानापुर से 8 अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया. गिरफ्तार अपराधियों के पास से भारी मात्रा में हथियार भी बरामद हुए हैं. उनके पास से 4 देसी कट्टा,9 गोलियां और तीन बाइक समेत लाखों की चरस बरामद हुई है.

अपराधी चार दिनों से कर रहे थे रेकी

इंजीनियर विद्या सागर का घर पाटलिपुत्रा थाना के इन्‍द्रपुरी इलाके में है. इंजीनियर अपने बेटे को स्‍कूल बस से नहीं भेजा करते थे. बच्चे को घर से स्‍कूल उनकी अपनी गाड़ी लेकर जाया करती थी. पुलिस के अनुसार इंजीनियर के पास स्‍विफ्ट डिजायर कार है. जिससे आयुष डेली स्‍कूल जाया करता था. पिछले 4 दिनों से अपराधी रेकी कर रहे थे. घर से लेकर स्‍कूल तक वो कार का पीछा करते थे. लगातार इनकी कोशिश आयुष को किडनैप करने की थी. लेकिन ये हर बार नाकाम हो जाते थे.

पड़ोसी संदीप था लाइनर

इंजीनियर का कुर्जी इलाके में ही ससुराल है. ससुरालवालों के पड़ोस में ही संदीप कुमार का घर है. इसका अक्‍सर इंजीनियर के घर आना-जाना होता था. इस पूरे मामले में संदीप का रोल शुरू से ही संदेहास्‍पद था. आयुष के घर से स्‍कूल जाने की इंफॉरमेशन को वो अपराधियों तक पहुंचाया करता था. लगातार संदीप अपराधियों के कांटैक्‍ट में था. सीडीआर खंगालने पर पुलिस को इस बात के सबूत भी मिले. अब लाइनर संदीप भी पुलिस के शिकंजे में है.

ऐसे हुई पुलिस की कार्रवाई

चंद दिनों पहले संदीप ने इंजीनियर से कहा था कि कुछ अपराधी उसके बेटे को किडनैप करने की तैयारी में हैं. पहले तो इस बात को इंजीनियर ने हल्‍के में लिया. लेकिन जब संदीप ने अपराधी विक्‍़की बाबा का नाम लिया और उससे मिलने की बात कही तो उन्‍हें मामले की गंभीरता समझ में आई. फिर 9 जुलाई को पाटलिपुत्रा थाने में इंजीनियर ने एफआईआर दर्ज करायी. मामले की जानकारी एसएसपी को हुई. फौरन एसएसपी ने सिटी एसपी वेस्‍ट रविन्‍द्र कुमार की अगुआई में एक टीम गठित की. टीम में शास्‍त्रीनगर, दानापुर के एसएचओ व स्‍पेशल सेल के पुलिस ऑफिसर्स को लगाया गया. संदीप और अपराधियों के बीच हो रही बातचीत को ट्रैक किया गया.

ये था अपराधियों का प्‍लान

आयुष को किडनैप कर मारने के साथ ही अपराधी कई बड़े आपराधिक वारदातों को अंजाम देने की ठोस प्‍लानिंग कर चुके थे. जिसमें सबसे पहले छपरा की रहने वाली स्‍वर्ण व्‍यावसायी रेखा देवी की हत्‍या करने की तैयारी थी. रेखा अपराधी विक्‍की बाबा की वाइफ रह चुकी है. इसके बाद जगदेव पथ में स्थित हल्‍दी राम रेस्‍टोरेंट के मालिक पर जान लेवा हमला करना था. साथ ही मगध पेंट के मालिक को भी मारने की तैयारी थी. इन सब के बाद दानापुर के आनंद बाजार में स्थित बिजली ऑफिस में कैश लूट की तैयारी थी.

जेल से हो रही थी प्लानिंग

पुलिस ने जिन अपराधियों को पकड़ा है उनमें विक्‍की कुमार उर्फ विक्‍़की बाबा, भोली उर्फ शम्‍स तबरेज, सोनू खान उर्फ हामिद खान उर्फ दानिश, गोपाल कुमार, संदीप कुमार, अरविन्‍द कुमार उर्फ बाबा, चंदू पासवान और लालू उर्फ लल्‍लू राय शामिल हैं. पटना और गया के जेल में बंद कुख्‍यात अपराधियों से इनकी सांठगांठ है. पुलिस की जांच में ये बात सामने आई कि जेल में बंद अपराधियों ने हर एक वारदात को अंजाम देने के लिए तानाबाना बुना था. हालांकि इस गैंग का मेन सरगना विक्‍क‍ी बाबा ही है. भोली इसका राइट हैंड बताया जाता है. जो पटना के ही सुल्‍तानगंज इलाके का रहने वाला है. इसने चेन्‍नई के डा. एमजीआर कॉलेज से बीटेक की पढ़ाई कर रखी है. ये एक शार्प शूटर है. बिहार-झारखंड में इसके खिलाफ हत्‍या और लूट के कई मामले दर्ज हैं.

इस सफल ऑपरेशन के बाद एसएसपी मनु महाराज ने मीडिया को बताया कि आयुष की किडनैपिंग सहित कई बड़ी वारदातों को होने से टाला गया है. जेल में बंद अपराधियों को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी. इस गैंग के खिलाफ बिहार-झारखंड में कई आ पराधिक मामले दर्ज हैं. जिन्‍हें खंगाला जा रहा है.

यह भी पढ़ें-
पप्‍पू बोले : लालू बलिदानी दिखने को तेजस्‍वी की बर्खास्‍तगी चाहते हैं , दूसरे को मौका नहीं देंगे
तेजस्वी के इस्तीफे पर होगा फैसला! रांची से आज ही पटना लौट रहे हैं लालू